Home » इंडिया » Jammu and Kashmir: MHA orders for deployment additional 100 Coys of Central Armed Police Forces
 

कश्मीर में क्या करने जा रही है मोदी सरकार, अजीत डोभाल ने तैनात करवाए 10 हजार अतिरिक्त सैनिक !

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 July 2019, 15:22 IST

देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के जम्मू-कश्मीर दौरे से लौटने के बाद गृह मंत्रालय ने राज्य में केंद्रीय सुरक्षाबलों की 100 अतिरिक्त कंपनियोंं को तैनात करने का निर्णय लिया है. इसके बाद से कश्मीर में बवाल मच गया है. राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सवाल उठाया है कि कश्मीर में अतिरिक्त सेना की क्या जरूरत है.

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट किया है कि मोदी सरकार ने घाटी में 10 हजार अतिरिक्त सैनिक तैनात करने का फैसला लिया है. सरकार का यह फैसला लोगों में भय का माहौल पैदा करेगा. वहीं पूर्व आईएएस अधिकारी और जम्मू-कश्मीर पीपल्स मूवमेंट (जेकेपीएमके अध्यक्ष शाह फैसल ने चिंता जताई कि जम्मू में इस बात को लेकर अफवाह है कि घाटी में कुछ बड़ा होने वाला है

 

आखिर कश्मीर में मोदी सरकार ऐसा क्या करने जा रही है जो 10000 सैनिकों की अतिरिक्त तैनाती की गई है. दरअसल, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल जब कश्मीर के दौरे पर थे तब उन्होंने राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था को लेकर बैठक की थी. माना जा रहा है कि इसी के बाद उन्हें कश्मीर में अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती महसूस हुई.

इससे पहले जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजी दिलबाग सिंह ने कहा कि वह पहले से ही उत्तरी कश्मीर में अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती की मांग करते रहे हैं. उन्होंने कहा कि प्रदेश में अतिरिक्त जवानों की तैनाती उनके आग्रह के बाद ही की गई है.

 

वहीं, गृहमंत्रालय के निर्देश में कहा गया है कि अतिरिक्त जवानों की तैनाती इसलिए की जा रही है ताकि राज्य में कानून-व्यवस्था बेहतर किया जा सके. ये जवान घाटी में सुरक्षा व्‍यवस्‍था के लिए एंटी-टेररिस्‍ट ऑपरेशंस को और ताकतवर बनाने के मकसद से तैनात रहेंगे.

इसके अलावा नॉर्थ कश्मीर में जवानों की संख्या काफी कम है. जिस कारण इन जगहों पर काफी लंबे समय से जवान बढ़ाए जाने की जरूरत महसूस की जा रही थी. डीजी दिलबाग सिंह ने बताया कि इन सभी  अतिरिक्‍त सुरक्षाबलों को कश्‍मीर में कानून व्‍यवस्‍था दुरुस्‍त रखने के अलावा 'काउंटर इनसर्जेंट ग्रिड' को मजबूत करने का जिम्मा भी सौंपा जाएगा. 

एपीजे अब्दुल कलाम: जब देश के इस प्यारे राष्ट्रपति ने लाइव व्याख्यान के दौरान गंवा दी थी अपनी जान

First published: 27 July 2019, 15:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी