Home » इंडिया » Jammu and Kashmir: Satyapal Malik transferred, now these IAS will be new governors
 

J&K और लद्दाख को मिले नए एलजी, सत्यपाल मलिक का हुआ तबादला

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 October 2019, 9:34 IST

जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम 2019 को प्रभावी होने के लिए एक सप्ताह से भी कम समय में सरकार ने शुक्रवार को राज्य के अंतिम राज्यपाल सत्यपाल मलिक को बाहर कर दिया और उन्हें गोवा का नया राज्यपाल नियुक्त किया है. मलिक जम्मू-कश्मीर राज्य के तेरहवें राज्यपाल थे. 23 अगस्त 2018 में उन्हें लगभग 15 महीनों के लिए नियुक्त किया गया था. सरकार ने 1985-बैच के गुजरात-कैडर के आईएएस अधिकारी गिरीश चंद्र मुर्मू को जम्मू कश्मीर का नया उप राज्यपाल नियुक्त किया है, जो वर्तमान में वित्त मंत्रालय में व्यय सचिव नियुक्त थे.

वह प्रधानमंत्री के करीबी माने जाते हैं और नरेंद्र मोदी के सीएम रहते वह गुजरात के प्रधान सचिव थे. त्रिपुरा-कैडर के IAS अधिकारी (अब सेवानिवृत्त) राधा कृष्ण माथुर को केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख का उपराज्यपाल नियुक्त किया गया है. जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम, जिसमें राज्य को दो संघ शासित प्रदेशों में विभाजित करने के प्रावधान हैं, 31 अक्टूबर से लागू होंगे. माथुर पिछले नवंबर में मुख्य सूचना आयुक्त के पद से सेवानिवृत्त हुए थे और इससे पहले रक्षा सचिव थे.


मुर्मू और माथुर, जिन्होंने मलिक का स्थान लिया है, अब दो संघ शासित प्रदेशों में पुनर्गठन और पुनर्निर्माण की प्रक्रिया की देखरेख करेंगे. मई 2014 में मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर केंद्र में जाने वाले पहले कुछ अधिकारियों में से एक मुर्मू भी थे, लेकिन उन्हें हमेशा गुजरात के सबसे शक्तिशाली नौकरशाहों में से माना जाता है.

2013 में मुर्मू इशरत जहां मुठभेड़ मामले में सीबीआई द्वारा बुलाए गए उन अधिकारियों में शामिल थे, जिन्हें एक कथित बैठक के पुलिस अधिकारी जी एल सिंघल द्वारा प्रस्तुत पेन ड्राइव में निहित ऑडियो क्लिप की जांच करनी थी, जिसमें वे उपस्थित थे. वॉयस रिकॉर्डिंग, अब चार्जशीट का हिस्सा है, जिसमें एडवोकेट जनरल कमल त्रिवेदी के कार्यालय में एक बैठक का कथित ब्योरा है.

जम्मू-कश्मीर ब्लॉक विकास परिषद चुनाव में BJP 280 में से केवल 81 ब्लॉक जीत पायी

First published: 26 October 2019, 9:12 IST
 
अगली कहानी