Home » इंडिया » Jammu and Kashmir: Superb strategy by Police of nabbing stone pelters at Jama Masjid
 

कश्मीर: पत्थरबाजों को पकड़ने के लिए पुलिस ने निकाली जबरदस्त तरकीब, पत्थरबाज बन भीड़ में घुसे और..

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 September 2018, 10:44 IST

जम्मू कश्मीर पुलिस ने पत्थरबाजों को पकड़ने के लिए एक ऐसी रणनीति अपनाई जिसकी जाल में पत्थरबाज फंस गए. इसके लिए न तो पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े और न ही बंदूक चलानी पड़ी.

जम्मू-कश्मीर में आए दिन पत्थरबाज पुलिस या सेना के ऊपर पत्थर चलाते रहते हैं. जिस कारण सुरक्षाकर्मियों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. पत्थरबाज सुरक्षाकर्मियों पर पत्थर चलाते हैं और भीड़ में गुम हो जाते हैं. लेकिन शुक्रवार को ऐतिहासिक जामा मस्जिद के पास पत्थरबाजी कर रहे गुनहगारों को पकड़ने के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस ने एक जबरदस्त तरकीब निकाली.

पढ़ें- 'नरेंद्र मोदी किसी और देश के प्रधानमंत्री होते तो देना पड़ जाता इस्तीफा'

दरअसल, जुमे की नमाज के बाद भीड़ ने पुलिस और सीआरपीएफ कर्मियों पर पथराव करना शुरु कर दिया. इसके बाद पुलिन ने पत्थरबाजों को पकड़ने के लिए तरकीब निकाली. पुलिस की ओर से कोई जवाबी कार्रवाई नहीं की गयी. पुलिस ने न तो आंसूगैस के गोले दागे और न ही लाठीचार्ज किया.

भीड़ लगातार बढ़ती गई और 100 से ज्यादा लोग हो गये. इसमें दो पुराने पत्थरबार भीड़ की अगुवाई कर रहे थे. तब लोगों को तितर बितर करने के लिए पुलिस ने पहला आंसू गैस का गोला दागा. इसके बाद भीड़ में छिपे पुलिसर्किमयों ने प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे दो पत्थरबाजों को पकड़ लिया और वे उन्हें वहां खड़ी गाड़ी तक ले गये.

पढ़ें- भगोड़ा विजय माल्या Ind vs Eng टेस्ट मैच देखने पहुंचा, भारत लौटने के सवाल पर पहले तो जोर से हंसा फिर..

इसके बाद उन दोनों को थाने लाया गया, यहां तक कि पुलिसर्किमयों ने इन लोगों को डराने के लिए हाथ में खिलौने वाली बंदूक ले रखी थी. इन सब चीजों से न केवल अगुवाई करने वाले पत्थबरबाज बल्कि उनका साथ दे रहे अन्य लोग भी भौंचक्के रह गये और उन्होंने जल्द ही अपना प्रदर्शन खत्म कर लिया. बता दें कि ऐसी ही रणनीति साल 2010 में अपनायी गयी थी.

First published: 8 September 2018, 10:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी