Home » इंडिया » Jammu Kashmir: Avalanche in Bandipora and Kupwara One jawan martyred and 3 missing
 

जम्मू-कश्मीर में जवानों पर टूटा सर्दी का कहर, बर्फ में दबे आठ जवान, एक शहीद 2 लापता

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 December 2019, 11:07 IST

Jammu Kashmir: सर्दी का मौसम आते ही जम्मू-कश्मीर और सीमा पर तैनात जवानों की मुश्किलें बढ़ गई हैं. मंगलवार को नियंत्रण रेखा (LoC) पर हुए अलग-अलग हिमस्खलन की घटनाओं में एक जवान शहीद हो गया. साथ ही तीन जवान लापता बताए जा रहे हैं. हालांकि इस हिमस्खलन में फंसे चार जवानों को सुरक्षित निकाल लिया गया है. उन्हें सेना के अस्पताल में भर्ती कराया गया है. वहीं लापता हुए तीन जवानों के लिए बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है.

सैन्य सूत्रों के मुताबिक, कुपवाड़ा जिले के करनाह सेक्टर में एलओसी के ईगल पोस्ट पर मंगलवार सुबह हुए हिमस्खलन में सेना की दो जाट रेजीमेंट के चार जवान दब गए. घटना की सूचना मिलने के बाद पास की पोस्ट से जवानों को बचाव कार्य के लिए भेजा गया. साथ ही बचाव अभियान में प्रशिक्षित जवानों को भी लगाया गया. वहीं हेलीकॉप्टर से भी जवानों को निकालने का काम किया जा रहा है.

एसएसपी श्रीराम दिनकर ने बताया कि चार जवान हिमस्खलन में दब गए थे. जिसमें से एक जवान का शव बरामद कर लिया गया है. वहीं एक को सुरक्षित निकालकर अस्पताल भेज दिया गया. उन्होंने बताया कि अभी दो जवान लापता हैं. फिलहाल जवानों की तलाश में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है रहा है. इसके अलावा बांदीपोरा जिले के गुरेज सेक्टर के बख्तूर इलाके में बर्फीले तूफान की चपेट में आने से चार जवान गहरी खाई में गिरकर लापता हो गए. जिनकी तलाश में बचाव कार्य किया जा रहा है. इस दौरान तीन जवानों को सुरक्षित निकाल लिया गया, लेकिन एक जवान अभी भी लापता है. सैन्य सूत्रों के अनुसार बचाव कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है.

बता दें कि इस सीजन में हुए हिमस्खलन में जवानों के शहीद होने की ये चौथी घटना है. इससे पहले नवंबर में सियाचिन ग्लेशियर में आए हिमस्खलन में चार जवान शहीद हो गए थे. साथ ही दो पोर्टरों की भी मौत हुई थी. उसके बाद हुई अन्य घटना में भी दो जवान शहीद हो गए थे. इसी साल 30 नवंबर को सियाचिन ग्लेशियर में हुए भारी हिमस्खलन में सेना की पेट्रोलिंग पार्टी के दो जवान शहीद हो गए थे.

इसके अलावा नवंबर में ही 18 तारीख को सियाचिन में हुए हिमस्खलन में चार जवान शहीद हो गए थे और दो पोर्टर मारे गए थे. 10 नवंबर को उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा में हुए हिमस्खलन की चपेट में आकर सेना के दो पोर्टर मारे गए थे. इसी साल 31 मार्च को उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा में हिमस्खलन में दबकर मथुरा के हवलदार सत्यवीर सिंह शहीद हो थे. वहीं 3 मार्च को कारगिल के बटालिक सेक्टर में तैनात पंजाब के नायक कुलदीप सिंह हिमस्खलन की चपेट में आकर शहीद हो गए थे.

Chandrayaan 2: लैंडर विक्रम की लोकेशन के बारे में इसरो प्रमुख के सिवन का बड़ा खुलासा

झारखंड विधान सभा चुनाव- दूसरे चरण में सीएम रघुवर दास समेत दांव पर इन दिग्गजों की 'साख'

5 साल में मोदी सरकार ने विनिवेश के माध्यम से 2.79 लाख करोड़

First published: 4 December 2019, 11:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी