Home » इंडिया » Jammu Kashmir: BJP wants CM post CM post holds talks with PDP rebels and Sajad Lone
 

जम्मू-कश्मीर में BJP चाहती है CM पद, PDP के बागियों और सज्जाद लोन से चल रही है बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 July 2018, 9:12 IST

जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाने के लिए बीजेपी जी-जान से जुट गई है. वह राज्य में अपना पहला सीएम बनाना चाहती है. इसके लिए वह हर तरह की राजनीतिक रणनीति अपना लेना चाहती है. अपना सीएम बनाने के लिए बीजेपी कोई भी मांग पूरी करने या कोई भी मंत्रालय देने के लिए तैयार है, लेकिन मुख्यमंत्री पद पर समझौता करने के लिए तैयार नहीं है.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, भाजपा राज्य में सरकार बनाने के लिए पीडीपी के बागी विधायकों और दो विधायकों वाली पार्टी पीपुल्स कांग्रेस के चेयरमैन सज्जाद लोन से संपर्क में है. हालांकि बात सिर्फ सीएम पद को लेकर रुकी हुई है. बीजेपी राज्य में अपना पहला मुख्यमंत्री बनाने के अवसर को हाथ से नहीं जाने देना चाहती.

वहीं इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले सप्ताह दिल्ली में बीजेपी नेताओं के साथ बैठक करने वाले पीडीपी के बागी विधायकों के एक सूत्र ने बताया कि वो भी मुख्यमंत्री के पद पर समझौता नहीं करेंगे. बागी विधायकों के सूत्र ने बताया कि बीजेपी भविष्य में राज्य में अपना मुख्यमंत्री बना ले, लेकिन अभी ऐसा करने के लिए उचित समय नहीं है.

पढ़ें- पीएम मोदी और कोहली के ट्विटर फॉलोअर्स की संख्या होगी कम, ये है वजह

बता दें कि जम्मू और कश्मीर देश का एक मात्र मुस्लिम बाहुल्य राज्य है. यह 2019 के लोकसभा चुनावों के मद्देनजर बीजेपी के लिए खास महत्व रखता है. इसी को लेकर बीजेपी ने राज्य में पहली बार पीडीपी के साथ गठबंधन की सरकार बनाई थी. लेकिन फिलहाल ये गठबंधन टूट गया है.

वहीं सज्जाद लोन की पार्टी फिलहाल मौके को भुनाने चाहती है. सज्जाद लोन भी राज्य के सीएम बनना चाहते हैं लेकिन हाल-फिलहाल वह चुप हैं. उनकी पार्टी ने अपनी अलग से कोई राय नहीं रखी है और एक तरह से उनकी तरफ से पीडीपी के बागी विधायक ही पैरोकारी कर रहे हैं. 

पीडीपी के सूत्रों ने बताया कि पार्टी के 28 में से 21 विधायक अलग होकर बीजेपी के साथ जाने को तैयार हैं, लेकिन इसके लिए बीजेपी को ये वादा करना होगा कि नई बनने वाली सरकार शेष ढाई साल तक बनी रहेगी. उन्होंने कहा, "विधायकों के पास ज्यादा विकल्प नहीं हैं. उन्हें पता है कि लोग उनसे नाराज हैं और आतंकवादी उन्हें मारने के लिए तैयार बैठे हैं. उनके लिए ये जिंदगी और मौत का सवाल है. ऐसे में वो नई दिल्ली को नाराज नहीं कर सकते हैं."

पढ़ें- मोदी के तंज पर कपिल सिब्बल का जवाब, भाजपा को कहा 'लिंच-पुजारी'

वहीं दूसरी तरफ राज्य की पूर्व सीएम और पीडीपी मुखिया महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार के खिलाफ न सिर्फ मोर्चा खोल दिया है अपितु कड़े तेवर दिखाते हुए यह चेतावनी दी दे डाली है कि अगर उनकी पार्टी तोड़ने की कोशिशें की गई तो इसका अंजाम ठीक नहीं होगा. उन्होंने एक टीवी इंटरव्यू में कहा, "यदि दिल्ली हस्तक्षेप करती है और हमारी पार्टी को तोड़ती है और सज्जाद लोन या किसी को भी मुख्यमंत्री बनाती है, तो फिर कश्मीरियों का भारतीय लोकतंत्र पर विश्वास खत्म हो जाएगा. दिल्ली को किसी हस्तक्षेप को गंभीरता से लिया जाएगा."

First published: 9 July 2018, 9:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी