Home » इंडिया » Jammu-Kashmir: Srinagar shutdown on Afzal Guru's death anniversary
 

अफजल गुरू की फांसी की बरसी पर कश्मीर घाटी में तनाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 February 2016, 13:12 IST

संसद हमले के दोषी मोहम्मद अफजल गुरू और जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के संस्थापक मोहम्मद मकबूल भट की फांसी की बरसी को देखते हुए सीआरपीएफ ने कश्मीर घाटी में हाई अलर्ट जारी किया है.

अफजल गुरू को 9 फरवरी और मोहम्मद मकबूल भट को 11 फरवरी को फांसी की सजा दी गई थी.

समाचार एजेंसी पीटीआई को सीआरपीएफ के प्रवक्ता ने इस मामले में जानकारी देते हुए बताया कि हुर्रियत के सभी धड़े और अलगाववादी संगठनों के द्वारा 9, 10 और 11 फरवरी को हड़ताल और प्रदर्शन को देखते हुए राज्य में सीआरपीएफ की सभी इकाईयों को हाई अलर्ट पर रखा गया है.'

अलगाववादी समूहों ने मंगलवार को अफजल गुरु को फांसी पर लटकाने की तीसरी बरसी पर विरोध-प्रदर्शन का आह्वान किया है और इसके अलावा 11 फरवरी को भट को फांसी दिए जाने के विरोध में भी प्रदर्शन का आह्वान किया है.

भारतीय संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु को 9 फरवरी 2013 को दिल्ली की तिहाड़ जेल में फांसी दी गई थी. वहीं 11 फरवरी 1984 को जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के संस्थापक भट को आतंकी गतिविधियों मे शामिल होने और देशद्रोह के मामले में फांसी दे दी गई थी.

सीआरपीएफ प्रवक्ता के मुताबिक शुक्रवार और रविवार को घाटी में होने वाली पथराव की घटनाओं को देखते हुए सीआरपीएफ ने घाटी और आसपास के इलाकों में जवानों की अतिरिक्त तैनाती की गई है.

इस मामले में सीआरपीएफ के डीआईजी (ऑपरेशन) श्रीनगर संजीव धुंदिया ने सुरक्षा मामलों की समीक्षा की. डीआईजी (ऑपरेशन) ने अधिकारियों और जवानों से कहा कि वो इसे गंभीरता से लेते हुए अलर्ट रहें.

प्रवक्ता के मुताबिक, 'कुछ हफ्ते पहले घाटी के सराफ कादल इलाके में हिंसक पथराव के बीच सीआरपीएफ के जवानों पर ग्रेनेड फेंका गया लेकिन संयोग से ग्रेनेड में विस्फोट नहीं हुआ.'

First published: 9 February 2016, 13:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी