Home » इंडिया » Jamnagar sessions court senences former IPS officer Sanjeev Bhatt to life imprisonment
 

गुजरात के पूर्व IPS संजीव भट्ट को उम्रकैद की सजा, जानिए क्या है पूरा मामला

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 June 2019, 13:02 IST

हिरासत में मौत के मामले में गुजरात की जामनगर कोर्ट ने बर्खास्त पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को उम्रकैद की सजा सुनाई है. साथ ही उनके सहयोगी को भी उम्रकैद की सजा हुई है. बता दें कि साल 1990 में जामनगर में भारत बंद के दौरान हिंसा हो गई थी. उस दौरान संजीव भट्ट जामनकर के एएसपी हुआ करते थे. इस हिंसा के दौरान पुलिस ने 133 लोगों को गिरफ्तार किया था.

बताया जाता है तभी न्यायिक हिरासत में एक आरोपी प्रभुदास माधवजी वैश्नानी की मौत हो गई. उस वक्त भट्ट और उनके साथियों पर आरोपी के साथ मारपीट करने का आरोप लगा था. जब एक आरोपी की न्यायिक हिरासत में मौत हो गई तो संजीव भट्ट के साथ उनके अन्य साथियों पर भी मुकदमा दर्ज किया गया. बताया जाता है कि उस दौरान गुजरात सरकार ने संजीव पर मुकदमा चलाने की इजाजत नहीं दी. साल 2011 में राज्य सरकार ने भट्ट के खिलाफ ट्रायल की अनुमति दी और फिर सुनवाई शुरु हुई.

इसी महीने 12 तारीख को ही सुप्रीम कोर्ट ने संजीव भट्ट की याचिका पर विचार करने से इंकार कर दिया था. उन्होंने याचिका में अपने खिलाफ हिरासत में हुई मौत के मामले में नए सिरे से गवाहों की जांच की मांग की थी. उन्होंने शीर्ष कोर्ट में गुजरात हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती दी थी.

First published: 20 June 2019, 12:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी