Home » इंडिया » Jat agitation: 3 SDMs suspended basis on prakash singh committee
 

हरियाणा: जाट आंदोलन में लापरवाही बरतने पर तीन एसडीएम सस्पेंड

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 May 2016, 15:10 IST

हरियाणा में जाट आंदोलन के दौरान हुई हिंसा के मामले में अफसरों की भूमिका पर बनाई गई प्रकाश सिंह कमिटी की रिपोर्ट के आधार पर मनोहर लाल खट्टर सरकार ने कार्रवाई शुरू कर दी है.

हरियाणा सरकार ने कार्रवाई करते हुए हांसी, झज्जर और गोहाना के तत्कालीन एसडीएम को निलंबित कर दिया है. इनमें पंकज सेतिया, जगदीप सिंह और धर्मेंद्र सिंह के नाम शामिल हैं.

प्रकाश सिंह कमिटी की रिपोर्ट


निलंबित किए गए तीनों अफसर जाट आंदोलन के वक्त अलग अलग जिलों में तैनात थे. पंकज सेतिया जहां झज्जर के एसडीएम थे वहीं धर्मेंद्र सिंह गोहाना के एसडीएम और जगदीप सिंह हांसी के एसडीएम थे.

इससे पहले प्रकाश सिंह की रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई करते हुए खट्टर सरकार गृह सचिव पीके दास को भी हटा चुकी है. 

जाट आंदोलन के दौरान अफसरों और कर्मचारियों की भूमिका की जांच के लिए गठित प्रकाश सिंह समिति ने 13 मई को 71 दिनों बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को रिपोर्ट सौंपी थी.

90 अफसर कठघरे में


यूपी और असम के पूर्व पुलिस महानिदेशक प्रकाश सिंह ने 450 पन्नों की रिपोर्ट में 90 अफसरों पर सवाल उठाए थे. इनमें पुलिस और प्रशासन के अफसर शामिल हैं. कमिटी की रिपोर्ट में शामिल इन अफसरों पर जानबूझकर हिंसा को रोकने में लापरवाही बरतने का आरोप लगा है.

गौरतलब है कि इस साल फरवरी के तीसरे हफ्ते में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हरियाणा के रोहतक, सोनीपत, हिसार और झज्जर सहित कई इलाकों में दंगाइयों ने जमकर उपद्रव मचाया था. इस दौरान सार्वजनिक और निजी संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया गया था.

First published: 21 May 2016, 15:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी