Home » इंडिया » jayalalitha take oath as a chief minister of tamilnadu
 

जयललिता छठी बार बनीं तमिलनाडु की मुख्यमंत्री

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 May 2016, 17:34 IST
(जया टीवी )

जे जयललिता सोमवार को रिकॉर्ड छठी बार तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनीं. बतौर मुख्यमंत्री जयललिता का यह लगातार दूसरा कार्यकाल है. इसके साथ ही एआईएडीएमके अध्यक्ष जयललिता तमिलनाडु की राजनीति में 32 साल पहले मरुधर गोपालन रामचंद्रन (एमजीआर) के बाद लगातार दूसरी बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठी हैं.

1984 में जयललिता को राजनीति में आगे बढ़ाने वाले और एआईएडीएमके के संस्थापक एमजी रामचंद्रन अपने मृत्यु तक लगातार तीन बार तमिलनाडु के मुख्‍यमंत्री रहे थे. एमजीआर 1977 में तमिलनाडु के मुख्‍यमंत्री बने थे और उनका निधन साल 1987 में हुआ था.

जयललिता का शपथग्रहण समारोह मद्रास यूनीवर्सिटी के ऑडिटोरियम में हुआ. राज्यपाल के रोसैया ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. जयललिता के शपथ ग्रहण समारोह में पुरानी परंपरा को तोड़ते हुए मुख्‍य विपक्षी दल डीएमके ने भी समारोह में हिस्सा लिया और बाद में इस फैसले को गलत बताया.

स्टालिन को पिछली सीट मिलने पर विवाद

इस मामले में डीएमके अध्यक्ष करुणानिधि ने कहा कि, "मेरे बेटे एमके स्टालिन को अंतिम वाली पंक्ति में जगह देकर जयललिता ने हमारा अपमान किया है." करुणानिधि के पुत्र स्टालिन डीएमके के कोषाध्यक्ष हैं और करुणानिधि के बाद पार्टी में दूसरे नंबर पर आते हैं.

शपथग्रहण के बाद करुणानिधि ने गुस्से में कहा, "सत्ता मिलने के बाद भी जयललिता बदली नहीं हैं और वह कभी बदलेंगी भी नहीं. सरथ कुमार चुनाव हारने के बाद भी पहली पंक्ति में थे. जबकि डीएमके ने स्‍टालिन के नेतृत्व में 89 सीटें जीती हैं."

तीन महिलाओं समेत 13 नए चेहरे

इस शपथग्रहण समारोह में जयललिता के साथ 28 सदस्यीय मंत्रिमंडल ने भी शपथ ली. इसमें उनके सबसे विश्वासपात्र ओ. पन्नीरसेल्वम भी शामिल हैं.

मुख्यमंत्री जयललिता अपने पास गृह विभाग समेत ऑल इंडिया सर्विसेस (IAS और जनरल एडमिनिस्ट्रेशन) रखेंगी. वहीं पन्नीरसेल्वम को उनका पुराना वित्त विभाग दिया गया है. इसके साथ ही पन्नीरसेल्वम, पर्सनल और प्रशासनिक सुधार विभाग को भी संभालेंगे.

जयललिता की कैबिनेट में तीन महिलाओं के साथ 13 नए चेहरे भी शामिल हुए हैं. शपथ ग्रहण समारोह में केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू, पोन राधाकृष्णन, लोकसभा उपाध्यक्ष और अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता एम थंबीदुरई के साथ जयललिता की खास दोस्त शशिकला भी मौजूद थीं.

छोटे किसानों का कर्ज माफ

जयललिता ने मुख्यमंत्री का पदभार ग्रहण करते ही छोटे किसानों का फसल ऋण माफ करने के साथ उन्हें 100 यूनिट तक बिजली मुफ्त देने का आदेश भी जारी कर दिया.

इसके अलावा जयललिता ने तमिलनाडु सरकार द्वारा संचालित 500 शराब की दुकानों को भी बंद करने का आदेश जारी किया. गौरतलब है कि इस विधानसभा चुनाव में तमिलनाडु की जनता ने जयललिता की एआईडीएमके को 232 में से 134 सीटों पर जीत दिलाई है. वहीं विपक्षी डीएमके को 89 सीटों से संतोष करना पड़ा.

First published: 23 May 2016, 17:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी