Home » इंडिया » jklf chief yasin malik arrested from jammu-kashmir
 

जम्मू-कश्मीर में हाई अलर्ट के बाद अर्धसैनिक बलों की 100 कंपनियां तैनात, यासीन मलिक गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 February 2019, 9:14 IST

जम्मू कश्मीर में अलगाववाद को बढ़ावा देने वाले नेता यासीन मलिक को शुक्रवार की देर रात गिरफ्तार कर लिया गया है. बता दें कि यासीन मलिक जम्मू कश्मीर लिब्रेशन फ्रंट का मुखिया है. खबरों के मुताबिक, जम्मू-कश्मीर में पुलिस एवं अर्द्धसैनिक बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है.

खबरों के मुताबिक गृह मंत्रालय द्वारा जम्मू-कश्मीर में अर्द्धसैनिक बलों की 100 कंपनियां भेजी गई हैं. हालांकि, यासीन मलिक के अलावा अभी किसी और नेता को गिरफ्तार नहीं किया गया है. बता दें कि यासीन मलिक की गिरफ्तारी को इसलिए महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि सोमवार को जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाली संविधान की धारा 35-A पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी. इस सुनवाई के दौरान कश्मीर में अगवाववादियों द्वारा हंगामें की आशंका जताई जा रही है.

सुरक्षाबलों द्वारा यासीन मलिक को श्रीनगर के माईसुमा से गिरफ्तार किया गया है. इसके बाद पूछताछ के लिए यासीन को कोठीबाग पुलिस स्टेशन ले जाया गया है. बताया जा रहा है कि संविधान की धारा 35-A पर सुनवाई से पहले प्रशासन द्वारा अलर्ट जारी किया गया है. धारा 35-A प्रावधान जम्मू कश्मीर के बाहर के व्यक्ति को इस राज्य में अचल संपत्ति खरीदने से प्रतिबंधित करते हैं. संविधान की इस धारा को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है. पुलवामा हमले के 8 दिन बाद जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने ये कदम उठाया है.

लखनऊ के ट्रामा सेंटर में स्वामी हंसदेवाचार्य का निधन, संतो में गहरा शोक

मालूम हो कि 14 फरवरी को पुलवामा में हुए हमले में सीआरपीएफ के 40 से अधिक जवान शहीद हो गए. इस हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थिक आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी.

फैक्स द्वारा गृह मंत्रालय ने  गृह सचिव, मुख्य सचिव और डीजीपी को अलर्ट जारी किया है. फैक्स में कहा गया है कि घाटी में तत्काल प्रभाव से इन बलों की तैनाती की जानी है.  ये फैक्स 22 फरवरी को भेजा गया है. भेजे गए फैक्स में सीआरपीएफ को इन बलों की तत्काल रवानगी की व्यवस्था करने को कहा गया है. फिलहाल इस बात का खुलासा नहीं हुआ है कि इतने बड़े पैमाने पर सुरक्षा बलों की तैनाती क्यों की जा रही है. 

First published: 23 February 2019, 8:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी