Home » इंडिया » JNU administration take action and fine against students for fry Pakoda
 

JNU में पकौड़ा तलने पर 4 छात्रों पर लगा 80 हजार जुर्माना, एक को हॉस्टल से निकाला

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 July 2018, 10:13 IST

देश की सबसे प्रतिष्ठित माने जानी वाली युनिवर्सिटी जवाहर लाल नेहरू युनिवर्सिटी में चार छात्रों पर 20-20 हजार का जुर्माना लगाया गया है. इसके अलावा एक छात्र को हॉस्टल से बाहर कर दिया गया है. दरअसल, इन चारों स्टूडेंट्स ने कैंपस के अंदर पकौड़ा तला था जिसे प्रशासन ने अनुशासनहीनता माना है.

खबर के अनुसार, स्टूडेंट्स फरवरी महीने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बेरोजगार होने से अच्छा पकौड़ा बेचने वाले बयान का विरोध कर रहे थे. सेंटर फॉर इंडियन लैंग्वेजेज के छात्र मनीष कुमार मीणा ने कहा कि वो पीएम मोदी के पकौड़ा तलने वाले बयान से बहुत नाराज थे. देश में बेरोजगारी की इतनी बड़ी समस्या है उसका निदान करने की बजाय पीएम मोदी पकौड़ा बेचने की बात कर रहे हैं.

पढ़ें- भारतीय सेना में अब नहीं बनेगा कोई ब्रिगेडियर, आर्मी ने खत्म किया पद

लिहाजा हम उसका विरोध करने के लिए पकौड़े तल रहे थे. एमफिल के छात्र मनीष कुमार मीणा राजस्थान के रहने वाले है. मामले में मनीष कुमार मीणा के खिलाफ जांच भी शुरू की गई है. इससे पहले भी जेएनयू कैंपस में पकौड़े तलकर पीएम मोदी के उस बयान का पकौड़े तलकर विरोध किया जा चुका है.

पढ़ें- देश के युवाओं में 'राष्ट्रवाद' पैदा करने के लिए डिफेंस ट्रेनिंग देगी मोदी सरकार

वहीं विपक्षी दल भी पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बयान का विरोध कर चुके हैं. कुछ महीने पहले एक टीवी इंटरव्यू के दौरान पीएम मोदी ने रोजगार सृजन को लेकर कहा था कि अगर कोई पकौड़ा बेचकर हर रोज 200 रुपये कमाता है, तो उसे भी नौकरी के तौर पर देखा जाना चाहिए.

First published: 17 July 2018, 10:13 IST
 
अगली कहानी