Home » इंडिया » JNU Case patiyala court slams policesay bring permission govt cant sit on file like this
 

JNU विवाद: कोर्ट की दिल्ली पुलिस को फटकार, पूछा- कहां है चार्टशीट की अनुमति वाली फाइल?

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 February 2019, 12:33 IST

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में देश विरोधी नारेबादी लगाने के आरोप में कन्हैया कुमार पर राजद्रहोद का मुकदमा चलेगा या नहीं, इसपर अब भी संशय बना हुआ है. दरअसल, इस मामले की आज पटियाला कोर्ट में होनी थी, जिसे 28 फरवरी तक के लिए टाल दिया गया है.

क्या हुआ कोर्ट में सुनवाई के दौरान

इस मामले की सुनवाई के दौरान पाटियाला कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से पूछा कि चार्जशीट पर सरकार की अनुमति मिलने वाली फाइल कहा है? इस पर दिल्ली पुलिस ने कहा कि फाइल सरकार के पास है. इस बात पर कोर्ट ने पुलिस को फटकार लगता हुए कहा कि फाइल जल्द से जल्द कोर्ट में पेश करें. फाइल को सरकार दबा कर नहीं बैठ सकती है. इस पर दिल्ली पुलिस ने कोर्ट को आश्वस्त देते हुए कहा कि इस मामले में दिल्ली सरकार की जल्द से जल्द अनुमति मिल जाएगी.

 

कन्हैया कुमार के देशद्रोह मामले में दिल्ली सरकार और दिल्ली पुलिस आमने-सामने

जानकारी अनुसर, दिल्ली सरकार ने दिल्ली पुलिस को इस मामले को लेकर अभी तक केस चलाने की मंजूरी नहीं दी है. बल्कि ऐसे मामलों के लिए राज्य सरकार की अनुमति अनिवार्य होती है. इस मामले में दिल्ली सरकार चुप्पी साधे हुए है.

दिल्ली पुलिस ने 14 जनवरी को पटियाला कोर्ट में जेएनयू मामले में आरोप पत्र दाखिल किया था. दिल्ली सरकार के पास 14 जनवरी को ही कन्हैया कुमार के राजद्रोह मामले में मंजूरी के लिए फाइल भेज दी थी, लेकिन अबतक दिल्ली पुलिस को दिल्ली सरकार ने केस को चलाने के लिए मंजूरी नहीं दी है.

पढ़ें ये भी- लोकसभा चुनाव से पहले मायावती की सोशल मीडिया पर एंट्री, जानें क्या बोले तेजस्वी

बता दें कि कोर्ट ने इस मामले में दिल्ली पुलिस को 14 जनवरी को अगले दस दिनों में मंजूरी लाने का समय दिया था, लेकिन दिल्ली सरकार की मंजूरी ना मिलने के कारण इस सुनवाई को अगले 28 फरवरी तक के लिए टाल दी गई है.

 

गृह मंत्रालय में अटकी पड़ी है फाइल

अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, कन्हैया कुमार पर राजद्रोह के आरोप की फाइल अभी तक गृह मंत्री के कार्यालय में अटकी पड़ी है. बताया जा रहा है कि सरकार इसपर कानूनी राय लेने के बाद ही कोई फैसला करेगी. इस मामले में सरकार का कहना है कि उसके पास 3 माह का समय है. ऐसे में अगर कन्हैया मामले में पुलिस को सरकार से मंजूरी नहीं मिलती है तो राजद्रोह का मुकदमा नहीं चलेगा.

First published: 6 February 2019, 12:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी