Home » इंडिया » JNU hunger strike enters 10th day, Kanhaiya Kumar withdraws
 

जेएनयू विवाद: कन्हैया की भूख हड़ताल खत्म, साथियों का आंदोलन जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

शुक्रवार देर रात एम्स अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने नौ दिन बाद अपनी भूख हड़ताल खत्म कर दी. हालांकि, अनिश्चितकालीन हड़ताल के दसवें दिन करीब दर्जन भर जेएनयू के छात्र अभी भी भूख हड़ताल पर बैठे हैं.

बीते नौ फरवरी को जेएनयू परिसर में हुए एक कथित विवादित कार्यक्रम के सिलसिले में विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से छात्रों को दी गई सजा के विरोध में ये छात्र भूख हड़ताल कर रहे हैं.

दूसरी ओर शुक्रवार को जेएनयू प्रशासन ने छात्रों को बाहरी लोगों को आमंत्रित नहीं करने के लिए कहा है. प्रशासन का कहना है कि इससे परिसर में शैक्षणिक माहौल और शांति की स्थिति बिगड़ सकती है.

पढ़ें: जेएनयू देश का तीसरा सबसे अच्छा विश्वविद्यालय

जारी रहेगा आंदोलन

जेएनयू छात्र संघ ने एक बयान में कहा, 'कन्हैया को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है. उन्हें कुछ दिनों तक आराम करने की सलाह दी गई है. उनकी कुछ मेडिकल जांच भी होनी है, इसलिए स्वास्थ्य की स्थिति पर नजर रखते हुए कन्हैया ने भूख हड़ताल वापस ले ली, लेकिन आंदोलन जारी रहेगा.'

वहीं जेएनयू हेल्थ सेंटर से मिली जानकारी के अनुसार भूख हड़ताल कर छात्रों में कीटोन स्तर उच्च है और उनका ब्लड प्रेशर गिरा हुआ है.

भूख हड़ताल जेएनयू छात्रसंघ ने बुलाई है. इसमें आइसा, एआईएसएफ के अलावा अन्य छात्र संगठन से जुड़े छात्र भी भूख हड़ताल पर हैं.

पढ़ें: जिनके लिए जेएनयू अंधों का हाथी बन गया है?

28 अप्रैल को 19 छात्र भूख हड़ताल पर बैठे थे जिनमें खराब स्वास्थ्य के चलते पांच छात्रों को बीच में हटना पड़ा. अभी उमर खालिद, रामा नागा, श्वेता राज, चिंटू कुमारी, अनंत प्रकाश नारायण अन्य छात्रों के साथ भूख हड़ताल पर हैं.

क्या है जांच समिति का फैसला

9 फरवरी को जेएनयू में हुए एक कार्यक्रम में सिलसिले में जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया पर 10 हजार रुपये जुर्माना लगाया है. उनके अलावा उमर खालिद पर 20 हजार रुपये जुर्माना लगाते हुए एक सेमेस्टर के लिए निलंबित किया गया है.

राजद्रोह के आरोप में जेल जा चुके अनिर्बान भट्टाचार्य 15 जुलाई तक निलंबित कर दिया गया. लेकिन 25 जुलाई के बाद से अनिर्बान भट्टाचार्य पर अगले पांच साल तक जेएनयू में कोई कोर्स करने पर रोक लगा दी गई है.

इसके अलावा ऐश्वर्य, रामा नागा, अनंत और गार्गी पर भी 20-20 हजार का जुर्माना लगाया गया है. एक अन्य छात्र मुजीब गट्टू को दो सेमेस्टर के लिए निलंबित किया गया है.जेएनयू के संयुक्त सचिव सौरभ शर्मा पर भी दस हजार रुपये जुर्माना लगाया गया है.

First published: 7 May 2016, 1:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी