Home » इंडिया » JNU inquiry committee upholds Kanhaiya kumars fine and umar khalid rustication over anti national slogan
 

कन्हैया कुमार पर बरकरार रहेगा जुर्माना, JNU में देश विरोधी नारे लगाने का है आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 July 2018, 16:38 IST

देश की सबसे प्रतिष्ठित माने जाने वाली युनिवर्सिटी जवाहर लाल नेहरू युनिवर्सिटी में कथित देश-विरोधी नारे लगाने के आरोप में जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष पर जुर्माना बरकरार रहेगा. इसके साथ ही उनके सहपाठी उमर खालिद का जेएनयू से निष्कासन भी बरकरार रहेगा.

जेएनयू की उच्चस्तरीय जांच समिति ने यूनिवर्सिटी परिसर में नौ फरवरी 2016 की घटना पर उमर खालिद के निष्कासन, कन्हैया कुमार पर जुर्माने को बरकरार रखा है. दरअसल, जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और छात्र नेता उमर खालिद के खिलाफ कथित तौर पर देश विरोधी नारेबाजी के आरोप में केस दर्ज है.

फरवरी 2016 में डीएसयू नेता उमर खालिद के नेतृत्व में छात्रों ने प्रदर्शन की योजना बनाई थी लेकिन जब उन्हें प्रदर्शन की अनुमति नहीं मिली तो उन्होंने बाद में मकबूल भट और अफजल गुरु के पक्ष में नारेबाजी शुरू करने का आरोप लगा था. तब पुलिस का कहना था कि कन्हैया इस भीड़ में मौजूद था.

 

इस मामले की जांच दिल्ली पुलिस कर रही है. पुलिस ने नारेबाजी के मामले में कन्हैया और खालिद को गिरफ्तार किया था. बाद में दिल्ली की अदालत ने दोनों को जमानत दे दी थी. भारतीय जनता पार्टी की छात्र इकाई एबीवीपी ने दावा किया था कि कन्हैया और उमर खालिद ने नारेबाजी की थी.

पढ़ें- केजरीवाल सरकार का दिल्लीवासियों को बड़ा तोहफा, अब 500 मीटर के दायरे में मिलेगी ये सुविधा

वहीं दोनों छात्र नेता आरोपों से इनकार करते रहे. कन्हैया और उमर ने दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा है कि जब देश से जुड़ा मामला है तो वह कोर्ट में चार्जशीट क्यों नहीं दाखिल कर रही है? देशद्रोह का आरोप लगने के बाद जेएनयू प्रशासन ने उमर खालिद को यूनिवर्सिटी से निलंबित कर दिया था वहीं कन्हैया कुमार पर जुर्माना लगाया था.

First published: 5 July 2018, 16:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी