Home » इंडिया » JNU: police lathi charge on students, students were on a protest march to parliament against UGC decision
 

JNU के 1000 छात्रों पर पुलिस ने बरसाई लाठी, अपनी मांगों के लिए निकाल रहे थे मार्च

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 March 2018, 10:11 IST

जेंडर जस्टिस, शिक्षा का अधिकार, विचार विमर्श और असहमत होने के अधिकार को लेकर छात्रों ने कल रैली निकाली. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र और शिक्षकों ने यूनिवर्सिटी कैम्पस से संसद तक रैली निकाली. एक दूसरा सबसे बड़ा मुद्दा है सीट कटौती.

दोपहर बाद 2 बजे से शुरू हुए पैदल मार्च में दो हजार से ज्यादा छात्र शामिल रहे. यौन उत्पीड़न, क्लास में अनिवार्य उपस्थिति, सीट कटौती समेत तमाम मुद्दों को लेकर छात्रों और शिक्षकों में जेएनयू प्रशासन के खिलाफ नाराजगी है. छात्रों ने यौन उत्पीड़न के आरोपी शिक्षक अतुल जौहरी की बर्खास्तगी की मांग को लेकर भी विरोध प्रदर्शन किया. पैदल मार्च के दौरान छात्रों और तैनात पुलिस से झड़प की सूचना है.

ये भी पढ़ेंयूपी राज्यसभा चुनाव: भाजपा ने लिया बुआ-बबुआ से बदला, छीनी राज्यसभा की 10वीं सीट

 

मौके पर पुलिस और छात्रों के बीच झड़प हो गयी. छात्रों ने बैरेकेटिंग तोड़ने की कोशिश की. छात्रों और शिक्षकों का पैदल मार्च आईएनए मार्केट के रास्ते होते हुए संसद की तरफ बढ़ रहा था, जहां पुलिस ने बैरिकेटिंग लगा रखी थी. इसी बैरेकेटिंग को तोड़कर छात्र आगे बढ़ने की कोशिश कर रहे थे और इस दौरान पुलिस से झड़प हो गई. बाद में पुलिस को पानी की बौछार का इस्तेमाल करना पड़ा. कुछ छात्रों को हिरासत में लिया गया है.

23 छात्रों को हिरासत में लिया गया

वहीं पुलिस ज्वॉइन्ट सीपी अजय चौधरी ने बताया कि छात्रों को मार्च की अनुमति नहीं दी गई थी, लेकिन छात्रों ने ऐसा किया. 23 छात्रों को हिरासत में लिया गया है. उन्होंने कहा कि छात्रों के पहले ही मना किया गया था कि वो संसद तक मार्च नहीं कर सकते तो उन्होंने ये बात मानी थी कि जहां भी उनको रोका जाएगा वे वहीं रुक जाएंगे.

अजय चौधरी ने कहा कि मगर छात्रों ने बैरिकेड तोड़ने की कोशिश की और पुलिस वालों को भी चोट आई है. इसके बाद पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा. अब छात्र यहीं बैठ गए हैं और उनसे बात की जा रही है. उनका कहना है कि जब तक हिरासत में लिए गए छात्रों को छोड़ा नहीं जाएगा वह तब तक यहीं बैठे रहेंगे.

क्या है मुद्दा

जेंडर जस्टिस, शिक्षा का अधिकार, विचार विमर्श और असहमत होने के अधिकार को लेकर छात्रों ने रैली निकाली. एक दूसरा सबसे बड़ा मुद्दा है सीट कटौती. एक अनुमान के मुताबिक 1100 के करीब सीटों में कटौती कर 300 कर दिया गया है. छात्रों में नए दाखिला प्रक्रिया को लेकर भी नाराजगी है. एमफील, पीएचडी के लिए हुए प्रवेश परीक्षा में मजह 4 छात्र को ही चुना गया जिन्हें वाइवा के बाद एफफील में दाखिला दिया जाएगा. यह भी तय नहीं है इन चार छात्रों में से कितने को चुना जाएगा. शिक्षकों के रिक्त पदों को लेकर भी असंतोष का माहौल देखा जा रहा है. इसी तरह आरक्षण के मुद्दे पर जेएनयू प्रशासन सवालों के घेरे में है.

 

इससे पहले इस विरोध मार्च में शामिल होने के लिए अन्य विश्वविद्यालयों के छात्रों से भी अपील की गई थी. इस मार्च की जानकारी जेएनयू स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष गीता ने शुक्रवार को दी थी.

बता दें कि यौन उत्पीड़न मामले के अलावा भी जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में कई मुद्दों पर प्रशासन के साथ शिक्षकों और छात्रों के मतभेद चल रहे हैं. 75 फ़ीसदी अटेंडेंस के अलावा यूजीसी के कई फैसलों का विरोध हो रहा है, जिसमें हाल में ही 2 उच्च शिक्षण संस्थानों को पूर्ण स्वायत्तता प्रदान करने के फैसला भी शामिल है. इसी वजह से जेएनयू स्टूडेंट यूनियन और टीचर्स असोसिएशन इन मुद्दों पर संसद तक मार्च कर रहा है.

 

 

First published: 24 March 2018, 9:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी