Home » इंडिया » JNU ROW: journalist vishwa deepak resign from zee news
 

जेएनयू विवाद: पत्रकार विश्व दीपक ने ज़ी न्यूज़ से इस्तीफा दिया

निखिल कुमार वर्मा | Updated on: 23 February 2016, 10:21 IST

जवाहरलाल नेहरू युनिवर्सिटी को लेकर चल रहे विवाद के बीच पत्रकार विश्व दीपक ने समाचार चैनल ज़ी न्यूज़ से इस्तीफा दे दिया है. विश्व दीपक पिछले एक साल से इस चैनल से जुड़े हुए थे. उन्होंने भारतीय जनसंचार संस्थान से पढ़ाई की है और बीबीसी, डॉयचे वेले जैसे बड़े संस्थानों में भी किया है. इस्तीफे की जानकारी विश्व दीपक ने अपने फेसबुक वॉल पर दी है.

उन्होंने आरोप लगाया है कि कुछ मीडिया संस्थान जिनमें ज़ी न्यूज़ भी शामिल है, ने कन्हैया कुमार को मीडिया ट्रायल करके 'देशद्रोही' साबित किया.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी अपने फेसबुक वॉल पर विश्व दीपक के इस्तीफे से जुड़ी खबर शेयर की है.

zee.jpg

कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी के बाद से ही मीडिया दो धड़ों में बंटा जा रहा है. कुछ न्यूज चैनलों पर जेएनयू में हुई घटना का 'फर्जी' वीडियो चलाने का आरोप लगा है जबकि दूसरे चैनल ही गलत वीडियो क्लिप का पर्दाफाश कर रहे हैं.

सोशल मीडिया पर भी लोग दो धड़ों में बंटे दिख रहे हैं. कई लोगों ने मांग की है कि फर्जी वीडियो चलाने वाले संपादकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करना चाहिए.

पढ़ें: सनसनीपसंद टीवी चैनलों का अर्नबवादी उन्माद

अपने इस्तीफे में पत्रकार विश्व दीपक भी गलत वीडियो चलाए जाने की ओर इशारा कर रहे हैं. उन्होंने लिखा है, 'क्या हम बीजेपी या आरएसएस के मुखपत्र हैं कि वो जो बोलेंगे वहीं कहेंगे? जिस वीडियो में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ का नारा था ही नहीं उसे हमने बार-बार हमने उन्माद फैलाने के लिए चलाया. अंधेरे में आ रही कुछ आवाज़ों को हमने कैसे मान लिया की ये कन्हैया या उसके साथियों की आवाज़ है?

deepak1.jpg

कैच से बातचीत में विश्व दीपक ने कहा कि मीडिया को अपनी जिम्मेदारी का एहसास होना चाहिए. मेरा इस्तीफा व्यक्तिगत होने के साथ राजनीतिक भी है. इस पूरे विवाद में जेएनयू के साथियों के साथ खड़ा हूं.

विश्व दीपक ने इस बात से भी नाराजगी जताई है कि दिल्ली पुलिस की एफआईआर में ज़ी न्यूज का संदर्भ दिया गया है. उनका मानना है कि मीडिया का काम निष्पक्ष होकर समाचार देना है न कि कोर्ट की तरह फैसले सुनाना.

जेएनयू विवाद पर उन्होंने कहा, 'कन्हैया समेत जेएनयू के कई छात्रों को हमने लोगों की नजर में ‘देशद्रोही’ बना दिया. अगर कल को इनमें से किसी की हत्या हो जाती है तो इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा? हमने किसी की हत्या और कुछ परिवारों को बरबाद करने की स्थिति पैदा नहीं की है बल्कि दंगा फैलाने और गृहयुद्ध की नौबत तैयार कर दी है. कौन सा देशप्रेम है ये? आखिर कौन सी पत्रकारिता है ये?

First published: 23 February 2016, 10:21 IST
 
निखिल कुमार वर्मा @nikhilbhusan

निखिल बिहार के कटिहार जिले के रहने वाले हैं. राजनीति और खेल पत्रकारिता की गहरी समझ रखते हैं. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से हिंदी में ग्रेजुएट और आईआईएमसी दिल्ली से पत्रकारिता में पीजी डिप्लोमा हैं. हिंदी पट्टी के जनआंदोलनों से भी जुड़े रहे हैं. मनमौजी और घुमक्कड़ स्वभाव के निखिल बेहतरीन खाना बनाने के भी शौकीन हैं.

पिछली कहानी
अगली कहानी