Home » इंडिया » JNU sexual Harassment case: professor joheri shamefull statement, student files fir against sexual harassment
 

JNU की पीड़िता का बयान, प्रोफेसर जौहरी के लिए लैब 'हरम' और वो 'राजा'

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 March 2018, 13:11 IST

JNU के प्रोफेसर जौहरी पर यौन उत्पीड़न के मामले में पीड़ित छात्रा ने एक नया बयान दिया है. छात्रा ने जो कहा वो बहुत ही हैरान करने वाला है. देश की एक प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर का ऐसा बयान शर्मनाक है. पीड़िता ने धारा 164 के तहत अपने बयान दर्ज कराते हुए पुलिस को बताया कि प्रोफेसर अतुल जौहरी लैब को अपना "हरम" और खुद को वहां का 'राजा' कहते हैं.

अतुल जौहरी जेएनयू में स्कूल ऑफ लाइफ साइंस के प्रोफेसर हैं. आरोप लगाते हुए पीड़िता ने कहा कि "वे महिला छात्रों की आकर्षित करने के लिए धर्म से जुड़े चुटकुले सुनाते थे. पीड़िता का आरोप है कि उनकी बात न मानने पर प्रोफेसर ने उसके रिसर्च वर्क को रोके रखा.

ये भी पढ़ें- शहनाई के उस्ताद को Google का सलाम, Doodle बनाकर किया याद

साथ ही छात्रा ने डिपार्टमेंट और उच्च अधिकारियों द्वारा उसकी शिकायतों पर कार्रवाई न करने का आरोप भी लगाया. पीड़िता ने कहा कि अब तक उसने यह सोचकर प्रोफेसर अतुल जौहरी के खिलाफ पुलिस में शिकायत नहीं की कि कहीं उसका रिसर्च वर्क बाधित न हो जाए. पीड़ित छात्रा ने बताया कि प्रोफेसर अतुल जौहरी की पत्नी उनकी छात्राओं को प्रोफेसर से दूर रहने की हिदायतें भी देती रहती थीं.

यह है पुलिस में दर्ज पीड़िता का पूरा बयान- "मैंने जब 2013 में अतुल जौहरी की लैब ज्वॉइन की तभी से वह कुछ ज्यादा ही लगाव दिखाने लगे. एकबार उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मेरा कोई ब्वॉयफ्रेंड है. और अगर मेरा कोई ब्वॉयफ्रेंड है तो क्या मेरा उसके साथ शारीरिक संबंध भी है. एकबार उन्होंने मुझे एक चुटकुला सुनाते हुए कहा कि शिवजी ने पार्वती से बोला कि मुझे वो (गुप्त अंग का जिक्र) चाहिए. वह इस तरह के जोक सुनाते रहते थे और रिसर्च वर्क के बारे में डिस्कस करने के लिए अपने ऑफिस बुलाते रहते थे.'

पीड़िता ने अपने बयान में आगे कहा, 'जब मैं उनके ऑफिस गई तो कुर्सी की जगह उन्होंने मुझे सोफा पर अपनी बगल में बिठाते और मेरी इजाजत के बगैर अजीब तरीके से मेरी पीठ और कंधे सहलाते थे. यह सब मेरे लिए बहुत ही असहज करने वाला था. 2014 में एकबार जब में लैब में उनसे अपने सिनॉप्सिस के बारे में बात करने गई तो उन्होंने मेरे अंगों को लेकर असहज टिप्पणियां कीं और कहा अपने शरीर को मेनटेन रखो नहीं तो दूसरी लड़कियों की तरह कुरूप हो जाओगी. मेरे मना करने का भी उन पर कोई असर नहीं हुआ.'

ये भी पढ़ें-  JNU, BHU, AMU समेत 60 शिक्षण संस्थान खुद तय करेंगे फीस और कोर्स, UGC ने लिया फैसला

छात्रा ने कहा, 'उन्होंने मेरे लिए पढ़ाई का माहौल दूभर कर दिया और मेरे रिसर्च वर्क पर ध्यान देना भी बंद कर दिया और मेरे सारे असाइनमेंट्स रोककर रखने लगे. इसके बाद मैंने अपना लैब बदलने की भी कोशिश की, लेकिन डिपार्टमेंट ने मेरा साथ नहीं दिया. मैंने अपने डीन को बताया कि मेरा यौन शोषण किया जा रहा है और मैं अपना सुपरवाइजर बदलना चाहती हूं. लेकिन चूंकि मैं अपना लैब नहीं बदल सकती थी, इसलिए मुझे प्रोफेसर जौहरी के मार्गदर्शन में रिसर्च करना पड़ा."

छात्रा के अनुसार, "मैंने जनवरी, 2017 में ही अपना मैन्यूस्क्रिप्ट प्रोफेसर जौहरी को दे दिया था, लेकिन अब तक उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया है. जो भी लड़की उनकी इन गंदी हरकतों का विरोध करती, वह उसका रिसर्च वर्क बाधित कर देते थे, जैसा कि उन्होंने मेरे साथ किया. मैं बेहद तनाव में और चिंतित हूं, क्योंकि मुझे अपना रिसर्च जुलाई में जमा करना है. अब तक मैंने पुलिस में इस सबकी शिकायत सिर्फ इसलिए नहीं की, क्योंकि मुझे अपना पीएचडी पूरा करने की चिंता थी, लेकिन इस दौरान पूरे समय मैं बेहद असहज रही."

प्रोफेसर की पत्नी ने भी दी थी दूर रहने की हिदायत
छात्रा ने पुलिस को बताया कि प्रोफेसर जौहरी की पत्नी अक्सर लैब आती रहती थीं और शाम 6 बजे के बाद लैब में न रुकने की सलाह देती थीं. लेकिन जब मैंने अतुल जौहरी के खिलाफ अन्य छात्राओं द्वारा शिकायत किए जाने खबर सुनी तो मैंने भी शिकायत करने का फैसला लिया. मेरा अनुरोध है कि प्रोफेसर जौहरी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. गौरतलब है कि छात्रों के प्रदर्शन के बाद कल प्रोफेसर की गिरफ्तारी तो हुई लेकिन गिरफ्तारी के कुछ ही देर बाद उनको बेल भी मिल गयी.

 

 

First published: 21 March 2018, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी