Home » इंडिया » Journalist Arnab Goswami relieved from Supreme Court, said - do not take any action for a week
 

पत्रकार अर्णब गोस्वामी को सुप्रीम कोर्ट से राहत, कहा- तीन हफ्ते तक कोई कार्रवाई न करें

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 April 2020, 14:22 IST

सुप्रीम कोर्ट ने पत्रकार अर्णब गोस्वामी की याचिका पर सुनवाई करते हुए उनके खिलाफ किसी भी कार्रवाई पर तीन हफ्ते की रोक लगा दी है. साथ सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र पुलिस को पत्रकार को सुरक्षा मुहैया करवाने का आदेश दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने सिर्फ अर्णब गोस्वामी के खिलाफ नागपुर में दायर की गई एक एफआईआर को स्वीकार किया है, इसे मुंबई स्थानांतरित कर दिया है. उनके वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि सभी एफआईआर एक जैसी हैं. जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और एमआर शाह की सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने अर्णब गोस्वामी द्वारा उनके खिलाफ एफआईआर के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई शुरू की. बेंच ने कहा उसके खिलाफ तीन सप्ताह तक कोई कठोर कार्रवाई नहीं की जाएगी.

रिपब्लिक टीवी के पत्रकार पर पर टीवी शो के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर अभद्र टिप्पणी करने का आरोप है. गोस्वामी के खिलाफ छत्तीसगढ़ सहित कई राज्यों में एफआईआर दर्ज की गई हैं. अर्णब गोस्वामी ने इन एफआईआर को रद्द करने के लिए सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा वह इस दौरान वे अग्रिम जमानत के लिए अर्जी दायर कर सकते हैं.


सुनवाई के दौरान विपक्षी खेमे के वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट के सामने कहा ‘'आप ऐसे बयानों का हवाला देकर सांप्रदायिक हिंसा पैदा कर रहे हैं, अगर एफआईआर दर्ज की गई हैं, तो आप इसे ऐसे कैसे रोक सकते हैं? जांच होने दीजिए, इसमें क्या गलत है?''

क्या है मामला

सोशल मीडिया में वायरल हो रहे वीडियो में महाराष्ट्र के पालघर में भीड़ द्वारा तीन लोगों की हत्या को लेकर हो रही एक टीवी बहस के दौरान एंकर अर्नब पर सोनिया गांधी पर टिप्पणी करने का आरोप है. वीडियो में गोस्वामी कहते हैं '‘अगर साधुओं की जगह किसी मौलवी या पादरी की हत्या हुई होती तो देश में क्या माहौल होता?’

Coronavirus : विदेशों में फंसे छात्र 3 मई तक का करें इंतज़ार- विदेश राज्य मंत्री

उन्होंने कहा कि ‘'अगर पादरियों की हत्या होती तो रोम से आई हुई, इटली वाली, एंतोनिया माइनो, सोनिया गांधी चुप नहीं रहती. मुझे लगता है कि मन ही मन वो खुश है कि सड़कों पर संतों को मारा गया है. वो इटली में रिपोर्ट भेजेगी कि जहां पर मैंने एक सरकार बना ली वहां पर हिंदू संतों को मैं मरवा रही हूं.’' इस टिप्पणी के बाद कांग्रेस के कई नेताओं ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी थी.

अर्णब गस्वामी ने रात को दफ्तर से घर लौटते वक्त अपनी गाडी पर हमले की बात कही थी. एक वीडियो में गोस्वामी ने कहा ‘आपमें इतनी हिम्मत नहीं है कि आप मेरे जायज सवालों का सामना कर सकें. इसलिए आपने मुझ पर और मेरी पत्नी पर हमला करवाने की कोशिश की.’

Coronavirus: सरपंचों से पीएम मोदी बोले- महामारी ने मुसीबत खड़ी की लेकिन शिक्षा भी दी

First published: 24 April 2020, 13:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी