Home » इंडिया » Judiciary interlocutors, Chief Justice Deepak Mishra also came in the media, Justices Jasti Chelameswar, Ranjan Gogoi, Madan Lokur and Kuria
 

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा मीडिया के सामने आकर रखेंगे अपनी बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 January 2018, 14:20 IST

सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जजों ने मीडिया के सामने आकर सुप्रीम कोर्ट के कामकाज पर सवाल उठाकर हलचल मचा दी है. मीडिया रिपोर्ट की माने तो जजों के सामने आने के बाद प्रधानमंत्री ने चर्चा के लिए कानून मंत्री को बुलाया है.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार दोपहर दो बजे जस्टिस दीपक मिश्रा भी मीडिया के सामने आकर अपनी बात रखेंगे. जस्टिस मिश्रा के साथ देश के अटॉर्नी जनरल भी शामिल होंगे. यह देश के इतिहास में अनोखी घटना है जब जब सुप्रीम कोर्ट के जजों अपनी बात कहने के लिए मीडिया का सहारा लेना पड़ा.

इन चार जजों में जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस मदन लोकुर, जस्टिस कुरियन जोसेफ, जस्टिस रंजन गोगोई शामिल हैं. जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा, 'करीब दो महीने पहले हम 4 जजों ने चीफ जस्टिस को पत्र लिखा और मुलाकात की. हमने उनसे बताया कि जो कुछ भी हो रहा है, वह सही नहीं है.

 प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों से बात करे हुए जस्टिस कुरियन ने कहा कि उन्होंने सीजेआई को एक पत्र लिखा था. उन्होंने सात पेज का वो लेटर भी शुक्रवार को मीडिया के सामने जारी किया.

सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सीनियर जज जस्टिस चेलामेश्वर ने एक महत्वपूर्ण टिप्पणी करते हुए कहा, "20 साल बाद कोई यह न कहे कि हमने अपनी आत्मा बेच दी है. इसलिए हमने मीडिया से बात करने का फैसला किया."

क्या आरोप है जजों के 

मीडिया के सामने जजों ने कहा कि 'पिछले दो महीने में कुछ ऐसी बातें हुई हैं. हमने खुद जाकर चीफ जस्टिस से बताया कि प्रशासन में सब कुछ ठीक नहीं है, लेकिन जब बात नहीं सुनी गई तो प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी पड़ी.'

जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के तीन अन्य वरिष्ठ जजों के साथ शुक्रवार सुबह मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा से प्रसाशन में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है, इस मुद्दे पर बात की. उन्होंने कहा, 'जब हमारी बात नहीं सुनी गई तो मजबूर होकर हमने पीसी करने की ताकि बाद में ये ना कहा जाए कि हमने अपनी आत्मा बेच दी.'

 

First published: 12 January 2018, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी