Home » इंडिया » Justice for Jisha: Kerala police grapple for clues. Outrage intensifies
 

जीशा रेपकांड: अंधेरे में हाथ मारती पुलिस और पुलिस से नाराज लोग

पी वेणुगोपाल | Updated on: 5 May 2016, 23:27 IST
QUICK PILL
  • केरल\r\nके निर्भयाकांड के नाम से बदनाम हो रहा पेरंबवूर की जीशा का जघन्य बलात्कार के बाद हत्या\r\nका मामला पूरे राज्य में लोगों\r\nके बीच उबाल का कारण बना हुआ है.
  • केरल\r\nके कई महिला समूह और सामाजिक\r\nसंगठन अपनी नाराजगी जताने के\r\nक्रम में सड़कों पर उतरकर\r\nप्रदर्शन कर रहे हैं.\r\nसोशल मीडिया\r\nभी जनता की नाराजगी से जुदा\r\nनहीं है.

केरल के पेरंबवूर क्षेत्र में 6 दिन पूर्व जीशा नाम की 29 वर्षीय कानून की छात्रा के साथ हुए जघन्य बलात्कार के बाद हत्या का मामला पूरे राज्य में लोगों के बीच उबाल का कारण बना हुआ है.

बुधवार की सुबह पेरंबवूर तालुका अस्पताल में जीशा की वृद्धा मां से मिलने पहुंचे मुख्यमंत्री ओमन चांडी को डीवाईएफआई के विरोध प्रदर्शन का सामना करना पड़ा. केरल के कई महिला समूह और सामाजिक संगठन अपनी नाराजगी जताने के क्रम में सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं. सोशल मीडिया भी जनता की नाराजगी से जुदा नहीं रहा और कई लोगों ने हैशटैग जस्टिस फॉर जीशा के साथ ट्वीट कर अपने विचारों को साझा किया.

शोक संतप्त मां से मिलने और उन्हें दिलासा देने के बाद विपक्ष के नेता वीएस अच्युतानंदन का कहना था कि इस प्रकार के जधन्य अपराध उसी देश या प्रदेश में घटित होते हैं जिसकी कमान एक ‘‘नाकाम और नकारा’’ राजा या मुख्यमंत्री के हाथों में होती है.

तालुका अस्पताल में जिशा की मां से मिलने पहुंचे मुख्यमंत्री ओमन चांडी को डीवाईएफआई के विरोध का सामना करना पड़ा


अबतक मिली सूचना के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी जल्द ही पीड़िता के परिवार से मिलने जा सकते हैं.

सीपीआई (एम) के राज्य सचिव कोडियरी कालकृष्णन और पोलितब्यूरो सदस्य पिन्नारयी विजयन ने भी अलग-अलग जनसभाओं में पुलिस द्वारा इस मामले से निबटने के तौर-तरीकों की आलोचना की.

इस बीच पुलिस ने तेजी दिखाते हुए तीन संदिग्धों को पूछताछ के लिये हिरासत में लेने के अलावा संभावित अपराधी का रेखाचित्र भी जारी किया है. जीशा अपनी मां के साथ नहर के किनारे एक टूटी-फूटी कोठरी में रहती थी. पुलिस के दस्तावेजों के अनुसार बलात्कार और हत्या की यह घटना 28 अप्रैल की दोपहर को 2 बजे से 5 बजे के बीच घटित हुई.

जीशा अपनी मां के साथ नहर के किनारे एक टूटी-फूटी कोठरी में रहती थी

एक पड़ोसी ने पुलिस को बताया है कि उसने इसी समय के आसपास एक व्यक्ति को पीड़िता के घर से निकलते हुए देखा था. उक्त महिला से प्राप्त विवरण और अन्य गवाहों से ली गई जानकारी के आधार पर पुलिस ने संभावित अपराधी का एक रेखाचित्र तैयार करवाया है.

टीवी की खबरों के अनुसार पुलिस ने अपराध स्थल के नजदीक से कुछ उंगलियों के निशान और नजदीक से ही एक हथियार भी बरामद करने में सफलता हासिल की है. इसके अलावा वे अपराध के समय संभावित संदिग्धों के आवागमन के बारे में जानकारी पाने की कोशिश में आसपास के क्षेत्रों के मोबाइल टावरों की जानकारी भी जमा कर रहे हैं.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से साफ हुआ कि जीशा के शरीर में 38 घाव मिले हैं. हत्यारे ने उसके साथ बलात्कार करने के बाद बड़े नृशंस तरीके से उसकी हत्या की थी और ऐसा लगता है कि यह घटना किसी मनोरोगी द्वारा की गई है.

इस नृशंस हत्या के तीन दिन बीत जाने के बाद लोगों का ध्यान इस ओर गया. पेरंबवूर एक कस्बे जैसी जगह है. हत्या की इस घटना की वीभत्सता सोशल मीडिया की वजह से दुनिया के सामने आ पाई. अब लोग यह पूछ रहे हैं कि इतनी जघन्य हत्या की घटना को कैसे एक साधारण अपराध की श्रेणी में रखा जा सकता है और क्या पीड़िता के एक गरीब दलित होने का इससे कोई सीधा संबंध है.

First published: 5 May 2016, 23:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी