Home » इंडिया » justice reddy said: it is absolutely wrong judicial murder of afzal guru
 

जस्टिस रेड्डी: अफजल की फांसी को न्यायिक हत्या कहना सरासर गलत

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 February 2016, 19:59 IST

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस पीवी रेड्डी ने संसद में हमले के मामले में फांसी की सजा पा चुके अफजल गुरु की सजा को लेकर कहा है कि समाज के कुछ लोगों के द्वारा इसे न्यायिक हत्या कहा जाना सरासर गलत है.

समाज के कुछ लोग अफजल गुरु के फांसी के फैसले के खिलाफ इस तरह के शब्दों का प्रयोग करके अपनी सीमाओं को लांघ रहे हैं. ऐसी बिल्कुल भी नहीं किया जाना चाहिए.

जो लोग अफजल की याद मे शहादत दिवस मना रहे हैं उन्हें आलोचना या फिर टिप्पणी करने से पहले पूरा निर्णय पढ़ना चाहिए.

साल 2005 में जस्टिस पीवी नावलेकर और जस्टिस पीवी रेड्डी की पीठ ने ही दिल्ली हाईकोर्ट के अफजल गुरु की फांसी की सजा को बरकरार रखा था.

वहीं जस्टिस नावलेकर और जस्टिस रेड्डी ने संसद हमले के एक अन्य आरोपी शौकत हुसैन गुरु की मौत की सजा को 10 वर्ष की कैद में बदल दिया था. इस मामले में दो अन्य आरोपी एसएआर गिलानी और अफसान गुरु उर्फ नवजोत संधु को बरी कर दिया गया था.

गौरतलब है कि जेएनयू के कुछ छात्रों के द्वारा बीते नौ फरवरी के एक कार्यक्रम में अफजल गुरु की फांसी को न्यायिक हत्या बताया गया था और गुरु को शहीद कहा गया था.

इसके बाद पूरे देश में इस विवाद ने भयंकर रूप धारण कर लिया था. इस मामले में दिल्ली पुलिस ने जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष सहित छह छात्रों पर देशद्रोह का केस दर्ज किया है. जिनमें से चार इस वक्त पुलिस की हिरासत में हैं.

First published: 27 February 2016, 19:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी