Home » इंडिया » jyotiraditya scindia wife pridarshini who made kp yadav fun defeats maharaj
 

सिंधिया की पत्नी ने जिसका उड़ाया था मजाक, उसी ने छीन लिया राजनीति का ताज

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 May 2019, 16:34 IST

भारत के लोकसभा चुनाव के इतिहास में पहली बार कोई गैर कांग्रेसी सरकार ने सत्ता में दोबारा वापसी की है. इस बार भी देशभर में मोदी लहर कायम रही. लोकसभा चुनाव 2014 में जहां बीजेपी 282 सीटें पाने में सफल रही थी. वहीं, इस बार ये आंकड़ा 300 के पार हो गया है. इसी के साथ एनडीए का आंकड़ा 348 तक जा पहुंचा.

इस चुनाव में कई दिग्गज नेताओं की हार हुई, जिसमें कांग्रेस ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम सबसे ज्यादा प्रमुख है. ज्योतिरादित्य सिंधिया को गुना की सीट से बीजेपी के कृष्ण पाल यादव ने एक लाख से अधिक वोटों से मात दे दिया.

खबरों के अनुसार, डॉक्टर कृष्ण पाल यादव ज्योतिरादित्य सिंधिया के कभी बेहद करीबी और जीत के राजदार रहा करते थे, लेकिन पिछले उपचुनाव में अपनी अनदेखी के बाद उन्होंने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया.

कांग्रेस की हार से बौखलाए कैप्टन अमरिंदर, कहा- पार्टी में अब या तो मैं या सिद्धू

कृष्ण पाल यादव (45) पेशे से एक एमबीबीएस डॉक्टर हैं. कृष्ण पाल के पिता अशोकनगर से कांग्रेस के जिलाध्यक्ष रह चुके हैं. सिंधिया के केपी यादव कभी काफी नजदीकी रहा करते थे. इनके चुनावों की सारी तैयारियां केपी यादव के हाथों होती थी, जिसे वे बखूबी तौर पर करते भी थे.

सिंधिया और केपी यादव के जानकार बताते हैं कि मुंगावली विधानसभा के उपचुनाव में इस सीट के मुख्य दावेदार कृष्ण पाल यादव. इसकी तैयारी तक के लिए सिंधिया ने केपी यादव को कह दिया था और वे चुनाव की तैयारियों के लिए इस क्षेत्र में सक्र‍िय भी हो गए थे. लेकिन आखिरी मौके पर केपी यादव का टिकट काट दिया गया. इसके बाद वे पार्टी से नाराज होकर बीजेपी में शामिल हो गए.

PM मोदी की प्रचंड जीत के बाद सेना की बड़ी कार्रवाई, मारा गया कुख्यात आतंकी जाकिर मूसा

गुना की सीट पर जब बीजेपी ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ केपी यादव को मैदान में उतारा, तो कई राजनीतिक जानकर कहने लगे थे कि इस सीट पर सिंधिया बहुत ही आसानी से जीत हासिल कर लेगें, क्योंकि केपी यादव बेहद ही कमजोर उम्मीदवार है, जो नतीजे के बिलकुल उलट हुई.

गुना लोकसभा सीट सिंधिया परिवार का गढ़ माना जाता था क्योंकि इस सीट पर विजयराजे सिंधिया 6 बार, माधवराव सिंधिया 4 बार और ज्योतिरादित्य ने 4 बार चुनाव में जीत हासिल की है, लेकिन इस बार कृष्ण पाल ने उन्हें कड़ी शिकस्त दे दी.

कांग्रेस की हार से बौखलाए कैप्टन अमरिंदर, कहा- पार्टी में अब या तो मैं या सिद्धू

कृष्ण पाल यादव द्वारा ली गई एक सेल्फी का किस्सा उनकी जीत के बाद काफी वायरल हो रहा है. इस किस्से के बारे में बताया जाता है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी प्रियदर्शिनी सिंधिया ने कृष्ण पाल यादव द्वारा ली गई एक फोटो को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था.

इस पोस्ट में उन्होंने फोटो शेयर करते हुए लिखा, "कभी महाराज के साथ सेल्फी लेने की लाइन में रहते थे, उन्हें भाजपा ने अपना प्रत्याशी चुना है." प्रियदर्शिनी का ये मजाक उनके पति के लिए काफी भारी पड़ गया और आज उसी ने उनके पति को कड़ी मात दे दी.

बिहार में लालू युग का हुआ अंत, लालू गए जेल, मोदी गए खेल !

First published: 24 May 2019, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी