Home » इंडिया » kaarnataka Floor test : Yeddyurappa can resign before floor test,
 

BREAKING: फ्लोर टेस्ट का सामना नहीं करेंगे येदियुरप्पा, स्पीच के बाद देंगे इस्तीफा- सूत्र

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 May 2018, 14:11 IST

बीजेपी के लिए कर्नाटक में बहुमत हासिल करना अब गले की घंटी बनता जा रहा है. सूत्रों की माने तो इसी डर को देखते हुए बीजेपी में बैठकों का दौर शुरू हो गया है. टीवी 9 के अनुसार बहुमत की व्यवस्था न होने की स्थिति में येदियुरप्पा वोटिंग से पहले ही इस्तीफ़ा दे सकते हैं और वह पार्टी हाईकमान को ये बात बता चुके हैं. 

शनिवार को शाम चार बजे येदियुरप्पा के सामने विधानसभा में बहुमत पास करने की चुनौती है लेकिन बीजेपी के पास फ़िलहाल 104 सीटें को उसे बहुमत हासिल करने के लिए 111 सीटों की जरूरत होगी. जानकारों की माने तो येदियुरप्पा के तीन सामने बहुमत पास करने के तीन संभावित विकल्प बचे हैं जिनका इस्तेमाल कर वह कर्नाटक में अपनी सरकार बनाने की उम्मीद कर सकते हैं.

पहले विकल्प में यदि कांग्रेस-जेडी (एस) गठबंधन के सात सदस्य क्रॉस वोटिंग करते हैं तो इससे फैसला येदियुरप्पा के पक्ष में जा सकता है.

दूसरे विकल्प में यदि 14 नव निर्वाचित सदस्य वोटिंग प्रक्रिया से पहले विधायकों के रूप में शपथ नहीं लेते हैं तो सदन में सदस्यों की संख्या 207 हो जाएगी. बीजेपी के पास 104 सदस्य हैं जो आधे से ज्यादा हैं.

तीसरे परिदृश्य में कांग्रेस-जेडी (एस) के 14 सदस्य अगर विश्वास मत प्रक्रिया के वक़्त अनुपस्थित रहते हैं तो सदस्यों की संख्या 207 हो जाएगी. जिससे बीजेपी आसानी से बहुमत हासिल कर सकती है.

अयोग्यता का विकल्प

हालांकि, यदि विपक्ष के सात सदस्य या तो येदियुरप्पा के पक्ष में क्रॉस-वोट करते हैं या वोट नहीं देते हैं, तो उन्हें छह साल तक एंटी-डिफेक्शन लॉ के तहत अयोग्यता का सामना करना पड़ेगा.

बीजेपी ने दावा किया है कि उसे अन्य पार्टियों के विधायकों का समर्थन है, जबकि कांग्रेस और जेडी (एस) का कहना है वे एकजुट हैं और उनका कोई भी सदस्य भाजपा के संपर्क में नहीं हैं. सहयोगियों ने यह भी दावा किया है कि उनके पास सरकार बनाने की संख्या है.

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि आनंद सिंह विजयनगर (बल्लारी) से अपने कांग्रेस पार्टी के टिकट पर जीते हैं, वे अन्य कांग्रेस विधायकों के साथ नहीं हैं. इससे पहले जेडी (एस) अध्यक्ष एचडी कुमारस्वामी ने कहा "बीजेपी हमें धमकी देने के लिए प्रवर्तन निदेशालय का उपयोग कर रही है और वह आनंदसिंह को भी धमकी दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें : वो तीन विकल्प जिनसे येदियुरप्पा को है विश्वासमत हासिल करने की उम्मीद

First published: 19 May 2018, 13:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी