Home » इंडिया » Kafeel Khan's wife wrote letter- Jail husband may be murdered, food not given for 5 days
 

कफील खान की पत्नी ने लिखा पत्र- 'जेल में पति की जान को खतरा, 5 दिन से नहीं दिया गया खाना'

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 March 2020, 12:35 IST

नागरिक सुरक्षा संशोधन अधिनियम (CAA) के विरोध के दौरान कथित भड़काऊ बयानों के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के तहत हिरासत में लिए गए डॉ. कफील खान की पत्नी शबीस्ता खान ने अपने पति की सुरक्षा की मांग की है. एक रिपोर्ट के अनुसार शबीस्ता खान ने आरोप लगाया है कि उत्तर प्रदेश में मथुरा जेल के अंदर उनके पति की हत्या की जा सकती है. शबिस्ता ने हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिखकर अपने पति से सुरक्षा का अनुरोध करते हुए दावा किया है कि उनके जीवन को खतरा हो सकता है.

यह पत्र अतिरिक्त मुख्य गृह सचिव उत्तर प्रदेश और डीजी जेल उत्तर प्रदेश को भी भेजा गया है. पत्र में आरोप लगाया गया है ''कफील खान के साथ जेल में अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है, उन्हें लगातार पांच दिनों तक भोजन नहीं दिया गया''. आरोप लगाया गया है ''उन्हें मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा है."

शबिस्ता खान ने मीडिया से कहा “मैं मथुरा जेल में अपने पति डॉ. खान से मिली. मुझे पता चला कि उन्हें जान का खतरा है. उन्हें मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा है और जेल में लाने के बाद भी उन्हें पांच दिनों तक खाना नहीं दिया गया. मुझे डर है कि जेल के अंदर उनकी हत्या हो सकती है. मैंने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने का अनुरोध किया है.”

12 दिसंबर 2019 को सीएए के विरोध प्रदर्शन के दौरान अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कथित रूप से भड़काऊ बयान देने के बाद खान को मुंबई से पिछले महीने उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स ने गिरफ्तार किया था. 14 फरवरी को उन्हें एनएसए के तहत आरोपित किया गया था और वर्तमान में मथुरा जेल में बंद हैं.

कुछ दिन पहले खान के मामा, नुसरुल्ला अहमद वारसी की उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में उनके घर के अंदर कुछ अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. पुलिस के अनुसार, कुछ अज्ञात बदमाशों ने राजघाट पुलिस स्टेशन के अंदर आने वाले गोरखपुर के बंकट चौक इलाके में उनके घर में घुसकर गोली मारकर उनकी हत्या कर दी.

पाकिस्तान का दोस्त चीन कर रहा है इस बार UNSC बैठक की अध्यक्षता, उठा सकता है कश्मीर का मुद्दा

First published: 2 March 2020, 12:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी