Home » इंडिया » Kamlesh Tiwari Murder Case two accused arrested from Gujarat by ATS
 

कमलेश तिवारी हत्याकांड: गुजरात से पकड़े गए दो मुख्य आरोपी, मां ने की फांसी की मांग

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 October 2019, 10:57 IST

लखनऊ में हुई कमलेश तिवारी की हत्या के मुख्य दो आरोपियों को गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया है. दोनों की गिरफ्तारी घटना के पांच दिन बाद गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से हुई. दोनों आरोपी कमलेश तिवारी की हत्या के बाद से फरार थे. इनकी गिरफ्तारी के लिए गुजरात एटीएस और यूपी पुलिस जगह-जगह दबिशें दे रही थी. आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद कमलेश तिवारी की मां कुसुम तिवारी ने फांसी की मांग की है.

गुजरात एटीएस के पुलिस उपमहानिरीक्षक हिमांशु शुक्ला ने कहा कि, "मंगलवार शाम गुजरात-राजस्थान सीमा पर शामलाजी के पास से उन्हें तब गिरफ्तार किया गया, जब वे गुजरात में घुसने वाले थे." उन्होंने कहा कि तकनीकी सर्विलांस के जरिए उनकी स्थिति का पता लगाया गया था. जब दोनों ने फरार होने के बाद अपने परिजनों और दोस्तों से बात की तो वह एटीएस की गिरफ्त में आ गए.

गुजरात एटीएस ने दोनों को गिरफ्तार करने के बाद यूपी पुलिस के हवाले कर दिया. दोनों आरोपियों के नाम अशफाक शेख (34) और मोइनुद्दीन पठान (27) हैं. दोनों सूरत के रहने वाले हैं. गौरतलब है कि 18 अक्टूबर को यूपी की राजधानी लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की उनके घर में हत्या कर दी गई.

45 साल के तिवारी लखनऊ के नाका हिंडोला इलाके में अपने परिवार के साथ रहते थे. पार्टी बनाने से पहले तिवारी हिंदू महासभा के एक धड़े से जुड़े रहे हैं. तिवारी की हत्या के मामले में सूरत के तीन और महाराष्ट्र के नागपुर से एक व्यक्ति को पहले ही हिरासत में लिया जा चुका है. वहीं, गुजरात एटीएस ने कमलेश तिवारी हत्याकांड में सूरत से गिरफ्तार तीन आरोपियों को मंगलवार देर शाम प्रभारी मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुदेश कुमार के आवास पर पेश किया. 

अदालत ने तीनों की 14 दिनों की न्यायिक हिरासत की मंजूरी दे दी. जिसके बाद जांचकर्ताओं ने तीनों को पुलिस हिरासत में देने का अनुरोध किया. इसके बाद अदालत ने उनकी चार दिनों के लिए पुलिस रिमांड स्वीकार कर ली. बता दें कि तीनों आरोपी मौलाना शेख सलीम, फैजान और राशिद अहमद पठान सूरत में पकड़े गए थे. उसके बाद उन्हें लखनऊ लाया गया. मंगलवार को मुख्य आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद कमलेश तिवारी की मां कुसुम तिवारी ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि हम सरकार की कार्रवाई से संतुष्ट हैं. उन्होंने कहा कि आरोपियों को फांसी दी जानी चाहिए.

कठुआ रेप की जांच करने वाली SIT के खिलाफ FIR दर्ज करने के आदेश

ममता बनर्जी का ऐलान, पश्चिम बंगाल में लागू नहीं होगी एनआरसी ना ही होगा डिटेंशन सेंटर का निर्माण

First published: 23 October 2019, 9:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी