Home » इंडिया » Kanhaiya, 4 others should be rusticated, recommends top university panel
 

कन्हैया, उमर और अनिर्बान समेत 5 छात्रों को जेएनयू से निकालने की सिफारिश

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 March 2016, 13:02 IST
QUICK PILL
  • जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय की एक उच्च स्तरीय समिति ने पिछले महीने हुए एक विवादित कार्यक्रम को लेकर छात्रसंघ प्रेसिडेंट कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान समेत कुल 12 छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की है.
  • कार्यक्रम को लेकर हुए विवाद के मामले में कन्हैया, उमर खालिद और अनिर्वान को देशद्रोह के मामले में गिरफ्तार किया जा चुका है. कन्हैया को अदालत ने तीन मार्च को जमानत पर रिहा कर दिया था जबकि उमर और अनिर्वान अभी भी न्यायिक हिरासत में हैं.

जवाहर लाल नेहरू  (जेएनयू) विश्वद्यिालय में नौ फरवरी को हुए विवादित कार्यक्रम की जांच के लिए बनी विश्वविद्यालय की समिति ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. 

जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट में जेएनयू छात्रसंघ के प्रेसिडेंट कन्हैया कुमार समेत 21 अन्य छात्रों को दोषी करार देते हुए कन्हैया, उमर खालिद, अनिर्वान और 9 अन्य छात्रों को विश्वविद्यालय से निकालने की सिफारिश की है.

जेएनयू में नौ फरवरी को अफजल गुरु की बरसी पर आयोजित कार्यक्रम को लेकर हुआ विवाद उस वक्त गहरा गया जब दिल्ली पुलिस ने देशद्रोह के मामले में जेनएयू छात्रसंघ के प्रेसिडेंट कन्हैया कुमार को कैंपस से गिरफ्तार कर लिया था. हालांकि कन्हैया को अब अदालत से छह महीने की अंतरिम जमानत मिल चुकी है.

जांच समिति ने सभी छात्रों को नोटिस जारी करते हुए 16 मार्च तक उनका जवाब मांगा है. समिति ने शुक्रवार को अपनी रिपोर्ट वाइस चांसलर एम जगदीश कुमार को सौंपी थी. 

छात्रों के खिलाफ की जाने वाली कार्रवाई के बारे में अब वीसी और मुख्य प्रॉक्टर फैसला लेंगे. रिपोर्ट में छात्रों को विश्वविद्यालय के नियमों का उल्लंघन किए जाने का दोषी करार दिया गया है.

क्या है मामला?

संसद हमले के दोषी अफजल गुरु की फांसी के विरोध में आयोजित एक कार्यक्रम की जांच के लिए 10 फरवरी को समिति का गठन किया गया था.

कार्यक्रम को लेकर हुए विवाद के मामले में कन्हैया, उमर खालिद और अनिर्वान को देशद्रोह के मामले में गिरफ्तार किया जा चुका है.

और पढ़ें: आजाद की सफाई, नहीं की आरएसएस और आईएसआईएस की तुलना

कन्हैया को अदालत ने तीन मार्च को जमानत पर रिहा किया जबकि उमर और अनिर्वाण अभी भी न्यायिक हिरासत में हैं. विश्वविद्यालय ने पांच सदस्यीय जांच समिति की तरफ से जांच पूरी होने के बाद 11 मार्च को कन्हैया समेत आठ छात्रों का निलंबन वापस ले लिया था. 

और पढ़ें: किंग ऑफ बैड टाइम

और पढ़ें: महाराष्ट्र सदन घोटाला मामले में छगन भुजबल गिरफ्तार

First published: 15 March 2016, 13:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी