Home » इंडिया » Kanpur: 6 days annual meeting of RSS starts, AIUC asks about muslims's patriotism
 

आरएसएस से उलेमा काउंसिल का सवाल- मुस्लिमों से कैसा राष्ट्रप्रेम चाहते हैं?

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 July 2016, 11:46 IST
(फाइल फोटो)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत प्रचारकों की अहम बैठक कानपुर में शुरू हो चुकी है. उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले इसे काफी अहम माना जा रहा है.

इस बैठक में आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत भी शामिल हो रहे हैं. इस बीच ऑल इंडिया सुन्नी उलेमा काउंसिल ने आरएसएस प्रमुख से मिलने का समय मांगा है.

उलेमा काउंसिल के लोगों ने रविवार शाम को आरएसएस के बैठक स्थल पर पहुंचकर मोहन भागवत से मिलने का समय देने के लिए एक पत्र भी कार्यकर्ताओं को दिया. इस खत के जरिए उलेमा काउंसिल ने आरएसएस प्रमुख से कई सवाल पूछे हैं.

संघ से उलेमा काउंसिल के सवाल

  1. आप हम मुसलमानों से कैसा राष्ट्र प्रेम चाहते हैं?
  2. धर्म परिवर्तन पर आरएसएस का क्या विचार है?
  3. आप इस्लाम के बारे में क्या जानते-समझते हैं?
  4. आरएसएस क्या देश को हिंदू राष्ट्र बनना चाहता है?
  5. इस्लाम से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ क्या चाहता है?
  6. संघ भारत को हिंदू राष्ट्र मानता है, तो क्या वो हिंदू धर्मग्रंथ के मुताबिक देश चलाना चाहते हैं?

सुरेश सोनी की बढ़ेगी सक्रियता!

आरएसएस की यह बैठक काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है. पिछले दो साल से से संघ में छुट्टी पर चल रहे सर कार्यवाह सुरेश सोनी का वनवास खत्म होने जा रहा है और वो फिर से अहम भूमिका निभाएंगे.

गौरतलब है कि 2014 में आम चुनावों के परिणाम तक सुरेश सोनी संघ के सबसे सक्रिय अधिकारी थे, लेकिन मोदी सरकार बनने के बाद उन्होंने संघ से तो छुट्टी ले ली, लेकिन सह कार्यवाह के पद पर बने रहे.

मिशन यूपी पर नजर

उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले एक बार फिर सुरेश सोनी का वनवास खत्म कर उन्हें महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है.

यूपी चुनाव के मद्देनजर पहले ही कई बदलाव किए जा चुके हैं, दत्तात्रेय होसबोले को पहले ही पटना से लखनऊ भेजा जा चुका है. ऐसे में सुरेश सोनी को सक्रिय भूमिका देकर संघ ने यूपी चुनाव को लेकर अपनी तैयारी तेज करने की जुगत में है.


संघ का छह दिवसीय मंथन

कानपुर में गंगा के किनारे आरएसएस के इस बड़े शिविर में प्रांत प्रचारकों का 6 दिनों का प्रशिक्षण शिविर चलेगा. कार्यक्रम में संघ के सभी प्रांत प्रचारक और सह प्रांत प्रचारक हिस्सा ले रहे हैं.

प्रांत प्रचारकों की ये बैठक हर पांच साल के बाद आयोजित होती है. संघ प्रमुख मोहन भागवत के अलावा सरकार्यवाह सुरेश सोनी, गोपाल कृष्ण, दत्तात्रेय होसबोले समेत संघ के सभी बड़े प्रतिनिधि इसमें हिस्सा लेंगे.

41 प्रांतीय प्रचारक शामिल

41 प्रांतीय प्रचारक संघ के इस महाकुंभ में हिस्सा ले रहे हैं. इस दौरान उनके कामों की समीक्षा की जाएगी. 11-12 और 13 जुलाई को प्रांत प्रचारकों का प्रशिक्षण वर्ग चलेगा, जबकि 14 और 15 जुलाई को संघ के क्षेत्रीय अधिकारी और अलग-अलग संगठनों के पदाधिकारियों का प्रशिक्षण होगा.

छह दिन के इस कार्यक्रम में कुल 150 स्वयंसेवक शामिल हो रहे हैं. जिसमें 75 सह प्रांत प्रचारक भी हैं. गौर करने वाली बात यह है कि संघ के इस शिविर का एजेंडा अभी तक साफ नहीं है.

हालांकि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले संघ का यह सबसे बड़ा शिविर इस बात की ओर इशारा जरूर करता है कि मिशन-2017 इस शिविर के एजेंडे में जरूर है. इसके अलावा 16 जुलाई को संघ शिक्षा वर्ग कार्यक्रम होगा, जिसमें प्रांत प्रचारक गतिविधियों की जानकारी देंगे.

First published: 11 July 2016, 11:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी