Home » इंडिया » Kaplesh Yagnik senior Journlist died from heart attack Dainik Bhaskar journalist editor indore
 

वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक का दिल का दौरा पड़ने से निधन, 'असंभव के विरुद्ध' कॉलम हुआ था चर्चित

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 July 2018, 10:08 IST

वरिष्ठ पत्रकार और दैनिक भास्कर के समूह संपादक कल्पेश याग्निक का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है. गुरुवार (12 जुलाई) की रात करीब साढ़े 10 बजे इंदौर स्थित ऑफिस में काम करने के दौरान ही उन्हें दिल का दौरा पड़ा. इसके बाद उन्हें बचाया नहीं जा सका. 

खबर के अनुसार, दिल का दौरा पड़ने के बाद उन्हें तुरंत बॉम्बे अस्पताल ले जाया गया. जहां करीब साढ़े तीन घंटे तक उनका इलाज भी चला, लेकिन डॉक्टरों के तमाम प्रयासों के बाद भी उनकी स्थिति में सुधार नहीं हुआ. डॉक्टरों के अनुसार, इलाज के दौरान ही उन्हें दिल का दूसरा दौरा पड़ा और रात में करीब 2 बजे डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. आज उनकी अंतिम यात्रा सुबह 11 बजे इंदौर में साकेत नगर स्थित उनके निवास से तिलक नगर मुक्तिधाम जाएगी. 

उनके निधन पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शोक जताया. उन्होंने ट्वीट किया, "बेबाक लेखन के पर्याय वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक को श्रद्धांजलि. राष्ट्रभक्ति के दृढ़ संकल्प से सिंचित प्रखर विचारों से आप हमारे दिल में अमर रहेंगे. ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति और परिजनों को पीड़ा की इस घड़ी में संबल प्रदान करें." 

कौन थे कल्पेश याग्निक?

कल्पेश याग्निक का जन्म 21 जून 1963 को हुआ था. उन्होंने अपने पत्रकारिता का सफर इंदौर से प्रकाशित अखबार 'फ्री प्रेस' से शुरू किया था. साल 1998 में वह दैनिक भास्कर ग्रुप से जुड़े. वे पैनी लेखनी के लिए जाने जाते थे. देश और समाज में चल रहे संवेदनशील मुद्दों पर बेबाक और निष्पक्ष लिखते थे.

पढ़ें- मॉब लिंचिंग मामले में जयंत सिन्हा का पलटवार, राहुल को लाइव बहस की दी चुनौती

उनका कॉलम ‘असंभव के विरुद्ध’ देशभर में चर्चित हुआ था. यह प्रत्येक शनिवार दैनिक भास्कर के अंक में प्रकाशित होता था. उनके परिवार में मां प्रतिभा याग्निक, पत्नी भारती, बड़ी बेटी शेरना, छोटी बेटी शौर्या, भाई नीरज और अनुराग हैं.

First published: 13 July 2018, 9:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी