Home » इंडिया » Kargil Vijay Diwas: Images of celebrations across the country
 

तस्वीरें: करगिल विजय दिवस पर दिल्ली से द्रास तक वीरों को सलाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 July 2016, 15:16 IST
(ट्विटर)

करगिल विजय दिवस की सत्रहवीं सालगिरह पर दिल्ली से लेकर द्रास तक जवानों की वीरता को याद किया गया. 26 जुलाई 1999 को करगिल और द्रास की चोटियों पर जमा पाकिस्तानी सैनिकों और आतंकियों को खदेड़कर भारतीय सेना ने तिरंगा लहरा दिया था.

दिल्ली में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने इंडिया गेट पर स्थित अमर शहीद जवान ज्योति पर जाकर युद्ध में जान न्यौछावर करने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि दी. इस दौरान तीनों सेना के प्रमुख भी उनके साथ मौजूद रहे.

अमर जवान ज्योति पर रक्षा मंत्री के साथ तीनों सेना के प्रमुखों ने भी श्रद्धांजलि दी (ट्विटर)

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने जवानों की शहादत को याद करते हुए कहा, "करगिल युद्ध में विजय दिलाने वाले बहादुरों की वीरता और बलिदान को याद कर रहा हूं. उन्हें सलामी देने के लिए देश के साथ मैं भी शामिल हूं."

करगिल युद्ध के दौरान भारत के 527 जवानों ने अपनी शहादत दी थी (ट्विटर)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी है. पीएम ने ट्विटर पर लिखा, "करगिल विजय दिवस पर मैं उन वीर सैनिकों के आगे सिर झुकाता हूं, जिन्होंने अंतिम सांस तक भारत के लिए लड़ाई लड़ी."

मुख्य युद्ध क्षेत्र करगिल-द्रास सेक्टर में युद्ध के वक्त करीब 30 हजार सैनिक मौजूद थे (ट्विटर)

पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा, "वीर जवानों के बलिदान हमें प्रेरित करते हैं. भारत में घुसपैठियों को सबक सिखाने वाले सैनिकों को देश कभी नहीं भूल पाएगा."

थल सेना के साथ वायु सेना ने भी ऑपरेशन विजय के दौरान सैनिकों की मदद की (ट्विटर)

थल सेनाध्यक्ष दलबीर सिंह सुहाग ने ऑपरेशन विजय की सालगिरह के मौके पर द्रास में बनाए गए वॉर मेमोरियल में एक कार्यक्रम में शिरकत की. जनरल सुहाग ने शहीद जवानों को इस दौरान श्रद्धांजलि दी.

करगिल युद्ध के बाद चार जांबाज सैनिकों को सर्वोच्च सैन्य सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया (ट्विटर)

करगिल युद्ध के बाद चार जांबाजों को देश के सर्वोच्च सैन्य सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया. जिसमें लेफ्टिनेंट मनोज कुमार पांडे (प्रथम बटालियन, ग्यारहवीं गोरखा राइफल्स, मरणोपरांत), ग्रेनेडियर योगेन्द्र सिंह यादव (अठारहवीं बटालियन, द ग्रेनेडियर्स), राइफलमैन संजय कुमार (तेरहवीं बटालियन, जम्मू कश्मीर राइफल्स) और कैप्टन विक्रम बत्रा (तेरहवीं बटालियन, जम्मू कश्मीर राइफल्स, मरणोपरांत) शामिल हैं.

लेफ्टिनेंट मनोज पांडे और कैप्टन विक्रम बत्रा को मरणोपरांत परमवीर चक्र दिया गया (ट्विटर)

मई, 1999 में भारतीय सेना को इस घुसपैठ के बारे में पता चलते ही तत्कालीन अटल बिहारी वाजपेयी सरकार ने 'ऑपरेशन विजय' की घोषणा की. तकरीबन दो महीने तक दोनों पक्षों में भीषण युद्ध हुआ. इस दौरान एयर फोर्स ने ऑपरेशन को अंजाम तक पहुंचाने में अविस्मरणीय योगदान दिया.

सैंड आर्टिस्ट सुदर्शन पटनायक ने करगिल शहीदों को अपने अनूठे अंदाज में श्रद्धांजलि दी (ट्विटर)
First published: 26 July 2016, 15:16 IST
 
अगली कहानी