Home » इंडिया » Karnataka: A Software engineer shuns his job from America to start farming in his village
 

अमेरिका में कर रहा था लाखों डॉलर की नौकरी, छोड़कर भारत वापस लौटे इंजीनियर ने शुरू की भुट्टे की खेती

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 September 2020, 12:07 IST

ज्यादातर लोगों के दिमाग में एक चीज बसी होती है कि वह गांव से शहरों में जाएंगे तो उनका बेहतर विकास हो सकता है. इसके अलावा अपना देश छोड़कर बहुत सारे लोग विदेश जाते हैं और वहां बड़ी नौकरीकर ढेर सारे पैसे कमाने का ख्वाब देखते हैं. लेकिन कर्नाटक के एक शख्स ने अमेरिका की लाखों डॉलर की नौकरी छोड़ अपने गांव वापस आकर भुट्टे की खेती शुरू की है.

कर्नाटक के यह शख्स यूनाइटेड स्टेट में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पद पर तैनात थे. अमेरिका की नौकरी छोड़ इस शख्स ने अपने गांव में भुट्टे की खेती शुरू की और दो साल में ही कमाई करना शुरू कर दिया. कर्नाटक के कलबुर्गी जिले के शेलागी के रहने वाले सतीश कुमार ने अमेरिका की नौकरी इसलिए छोड़ दी, क्योंकि वह अपने गांव में आकर खेती शुरू कर सकें.

न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए उन्होंने बताया कि वह लॉस एंजिल्स, अमेरिका और दुबई में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पद पर काम कर रहे थे. उन्होंने बताया कि अमेरिका में उन्हें 1 लाख अमरीकी डॉलर प्रति वर्ष यानि कि लगभग 73 लाख रुपये सालाना मिल रहे थे. लेकिन वहां मजा नहीं आ रहा था.

इस कारण दो साल पहले उन्होंने अमेरिका से सॉफ्टवेयर इंजीनियर की नौकरी छोड़ भारत वापस लौट आए. इसके बाद से वह अपने गांव में भुट्टे की खेती कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि वह अमेरिका में पैसे तो कमा रहे थे, लेकिन उनका उस काम में मन नहीं लग रहा था. उन्होंने बताया कि मक्के की खेती में वह लाखों रुपये कमा रहे हैं.

सतीश कुमार ने बताया कि वह अमेरिका में एक नीरस काम कर रहे थे. वहां बहुत सारी चुनौतियां नहीं थीं. लेकिन वह अपने जीवन पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पा रहे थे. इस कारण उन्होंने अपने गांव वापस लौटने का फैसला किया. सतीश ने बताया कि पिछले महीने 2-एकड़ भूमि पर भुट्टे में उन्होंने 2.5 लाख रुपये मकई में कमाए.

Coronavirus: भारत में पहली बार 90,000 से ज्यादा दैनिक मामले, जानिए अब कहां, कितने मामले

महाराष्ट्र: CM ठाकरे को जान से मारने की मिली धमकी, दाऊद के नाम पर दुबई से आया फोन

First published: 7 September 2020, 11:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी