Home » इंडिया » Karnataka Assembly Floor Test Live News Updates: Yeddyurappa resigns as CM, after fails to get numbers
 

सीएम बनने के 54 घंटे के भीतर हिट विकेट हुए येदियुरप्पा, जानिए पूरा घटनाक्रम

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 May 2018, 17:02 IST

एक नाटकीय घटनाक्रम में भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा ने सरकार बनाने के लिए आवश्यक संख्या 112 हासिल करने में विफल होने के बाद फ्लोर टेस्ट से पहले पाने पद से इस्तीफे की घोषणा कर दी है. येदियुरप्पा सदन को एक भावनात्मक संबोधन में कहा कि उनके पास कर्नाटक के विकास के कई सपने थे. उन्होंने कहा, अगर केवल 104 के बजाय हमें 113 सीटें मिलतीं तो हम इस राज्य का विकास करते. 

कर्नाटक चुनावों में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी . बीजेपी को 222 में से 104 सीटें मिली लेकिन वह बहुमत से लिए जरूरी 112 का आंकड़ा नहीं छू सकी. दूसरी  और कांग्रेस और जेडीएस के पास 78 और 38 सीटें थी, जिनके आधार पर वह बहुमत का दावा कर रही थी. दोनों ने राज्यपाल सरकार बनाने के लिए अनुमति मांगी लेकिन राज्यपाल ने सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते बीजेपी को मौका दिया. 

राज्यपाल पर सवाल 

बीजेपी द्वारा कर्नाटक बहुमत साबित न कर पाने के बाद विपक्ष राज्यपाल के फैसले पर भी सवाल उठाये जा रहे हैं. कांग्रेस तो पहले ही कह चुकी है कि बीजेपी के पास बहुमत नहीं था और हमने पूर्ण बहुमत की सूची राज्यपाल थी फिर किस आधार पर राज्यपाल ने बीजेपी को सरकार बनाने का मौका दिया.

अब जब बीजेपी बहुमत साबित नहीं कर पायी है ऐसे में कांग्रेस राज्यपाल के इस्तीफे की मांग कर सकती है. कांग्रेस ने राज्यपाल पर यह भी आरोप लगाया कि येदियुरप्पा ने राज्यपाल से बहुमत साबित करने के लिए 7 दिन का  वक्त मांगा था लेकिन राज्यपाल ने उन्हें 15 दिन क वक्त दिया.

गौरतलब है कि कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला गुजरात बीजेपी के नेता रह चुके हैं और नरेंद्र मोदी के सीएम रहते वह कई सालों तक राज्य के वित्त मंत्री रहे. बीजेपी पर यह भी आरोप विपक्ष लगाता रहा है कि साल 2014 में  नरेंद्र मोदी के सीएम बनने के बाद कई राज्यों में बीजेपी ने अपने नेताओं को राज्यपाल बनाया और वह संविधान से साथ खेलकर बीजेपी का साथ देते रहे हैं.  

येदियुरप्पा ने कही ये बातें 

  • कर्नाटक में येदियुरप्पा में विश्वास मत हासिल करने से पहले ही इस्तीफा दे दिया है.
  • येदियुरप्पा ने कहा कि कांग्रेस और जेडीएस का गठबंधन अवसरवादी है.
  • येदियुरप्पा ने कहा कर्नाटक कि जनता ने बीजेपी को मौका दिया है.
  • बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी है और अमित शाह ने मुझे सीएम बनाया.
  • येदियुरप्पा ने कहा जब तक जिन्दा हूँ किसानों के लिए काम करूँगा.
  • येदियुरप्पा ने कहा मैंने सोचा था कि किसानों का कर्ज माफ़ करूंगा.
  • येदियुरप्पा ने कहा कि पीएम मोदी कभी कर्नाटक की मदद के लिए पीछे नहीं हटे.
  • कर्नाटक में बीजेपी को ईमानदार नेताओं की जरूरत है.
  • आज कर्नाटक  में मेरे सामने अग्नि परीक्षा है लेकिन मैं जिंदगीभर जंग लड़ता रहूंगा.

कर्नाटक विधानसभा में अपना फ्लोर टेस्ट साबित न कर पाने के डर से बीएस येदियुरप्पा ने अपना इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले उन्होंने विधानसभा में भावुक भाषण दिया था. गौरतलब है कि उन्हें आज विधानसभा में बहुमत साबित करना था. लेकिन पर्याप्त विधायकों का इंतजाम ना कर पाने की वजह से फ्लोर टेस्ट से कदम खींच लिए. इससे पहले अटल बिहारी वाजपेयी ने साल 1996 में 13 दिन की सरकार चलाने के बाद फ्लोर टेस्ट का सामना करने की जगह राष्ट्रपति को अपना इस्तीफा सौंप दिया था.

ये भी पढ़ें : कर्नाटक: येदियुरप्पा ने किया इस्तीफे का ऐलान, फ्लोर टेस्ट से डरी भाजपा

First published: 19 May 2018, 16:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी