Home » इंडिया » Karnataka: BJP is now left to prove majority, now these methods
 

कर्नाटक : बीजेपी के पास बहुमत साबित करने के लिए बचे हैं अब ये तरीके

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 May 2018, 13:21 IST

कर्नाटक में कल शाम को 4  बजे यह साफ़ हो जायेगा कि राज्य में किसकी सरकार बनेगी. हालांकि बीजेपी के सीएम उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा का कहना है कि हमने मुख्य सचिव से बात की है और शनिवार को असेंबली का सेशन बुलाया है. हमें 100 प्रतिशत विश्वास है. पहले बीजेपी को राज्यपाल ने 15 दिन का वक़्त दिया था लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इसे बदल दिया. अब बीजेपी को 24 घंटे में बहुमत साबित करना होगा.

बीजेपी सूत्रों का कहना है कि कम से कम 12 विपक्षी पार्टियों के विधायक उनके संपर्क में हैं. जबकि बीजेपी को बहुमत के लिए अभी भी 7 विधायकों की जरूरत है. सूत्रों की माने तो कांग्रेस के 8 और जेडीएस के 2 विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं. सूत्र का यह भी कहना है कि  विपक्ष के 10 विधायक फ्लोर टेस्ट के दौरान अनुपस्थित रह सकते हैं, जिसके बाद बीजेपी के लिए बहुमत का आंकड़ा 106 रह जायेगा.

इसके अलावा दो अन्य सीटों पर अभी मतदान होना बाकी है. जेडीएस की ओर से HD कुमारस्वामी दो सीटों से चुनाव लड़े हैं, ऐसे में उन्हें एक छोड़नी पड़ सकती है और अगर ऐसा हुआ तो बहुमत जा आंकड़ा 111 रहे जायेगा. 

 

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में एंग्लो इंडियन मनोनीत करने पर भी रोक लगा दी है. संविधान के अनुच्छेद 333 के तहत गवर्नर को एक एंग्लो इंडियन सदस्य को विधानसभा का सदस्य मनोनीत करने का अधिकार है.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला हमारे स्टैंड को दिखाता है कि राज्यपाल ने गलत किया. कानूनी तौर पर रोके जाने के बाद अब वे बहुमत के लिए (बीजेपी) पैसे और ताकत का प्रयोग करेंगे.

कल शाम 4 बजे जब विधायकों की वोटिंग होगी तो पहले ध्वनि मत (वॉयस वोट) लिया जाएगा. इसके बाद कोरम बेल बजेगी और सभी विधायकों को दो खेमों में बंटने के लिए कहा जाएगा. इस दौरान सदन के दरवाज़े बंद होंगे. और फिर दोनों खेमों में विधायकों की गिनती की जाएगी.

ये भी पढ़ें : कर्नाटक में BJP को बड़ा झटका- फ्लोर टेस्ट में नहीं होगा गुप्त मतदान

First published: 18 May 2018, 13:19 IST
 
अगली कहानी