Home » इंडिया » Karnataka: bs yeddyurappa CM oath today but have to resign again after 24 hours on CM
 

कर्नाटक: येदियुरप्पा की कुर्सी पर लटकी तलवार, 24 घंटे में छोड़नी पड़ सकती है CM की कुर्सी!

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 May 2018, 8:59 IST

कर्नाटक में जीत के बाद भी बीजेपी के लिए सरकार बनाना इतना आसान नहीं है. 104 सीटें जीतने के बाद भी बीजेपी बहुमत से 8 सीटों की दूरी पर है. इसके अलावा भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा के सरकार बनाने के दावे को कांग्रेस की लगायी अटकलों का सामना करना पड़ा.

येदियुरप्पा के सीएम पद के शपथ ग्रहण के खिलाफ कांग्रेस ने देर रात सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की. इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों ने आधी रात को सुनवाई की. सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस की याचिका पर सुनवाई करते हुए भाजपा के नेता बीएस येदियुरप्पा के गुरुवार को होने वाली शपथ ग्रहण समारोह पर रोक लगाने से इनकार कर दिया.

ये भी पढ़ें- कर्नाटक: 22 साल बाद खुद को दोहरा रहा है इतिहास, देवगौड़ा के फैसले ने BJP को कर दिया था सत्ता से बाहर

इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एके सीकरी, जस्टिस एसए बोबड़े और जस्टिस अशोक भूषण की तीन जजों की बेंच ने की.

इसके साथ ही कोर्ट ने कांग्रेस से कहा कि वो राज्यपाल के फैसले पर दखल नहीं दे सकते हैं. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला सुनाते हुए येदियुरप्पा से विधायकों की लिस्ट मांगी जो उन्हें समर्थन दे रहे हैं.

लेकिन येदियुरप्पा की मुश्किलें अभी भी ख़त्म नहीं हुई हैं. कोर्ट की राहत के बाद आज सुबह 9 बजे सीएम पद के लिए शपथ ग्रहण करेंगे. इसके साथ ही येदियुरप्पा कर्नाटक की सत्ता पर काबिज हो जायेंगे. लेकिन कुर्सी बचाने के लिए 24 घंटों के अंदर ही उन्हें अपने 112 विधायकों की लिस्ट कोर्ट को पेश करनी है.

गौरतलब है कि बीजेपी ने 104 सीटों पर जीत हासिल की है ऐसे में 112 विधायकों के समर्थन की लिस्ट कोर्ट को सौंपना आसान नहीं होगा. येदियुरप्पा अगर 112 विधायकों की लिस्ट नहीं सौंप पाएं तो उन्हें 24 घंटे के भीतर ही मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ सकती है.

ये भी पढ़ें- SC में कर्नाटक के 'मिडनाइट सियासी ड्रामे' पर सुनवाई की पूरी टाइमलाइन

पहले भी एक बार 2007 में ऐसा वाकया हुआ था जब महज 7 दिनों के लिए येदियुरप्पा को कुर्सी मिली थी. बहुमत साबित न होने के कारण येदियुरप्पा को 7 दिनों के भीतर ही इस्तीफ़ा देना पड़ा था. गौरतलब है कि नतीजों के बाद कांग्रेस और जेडीएस ने साथ मिल कर सरकार बनाने का दावा किया.

First published: 17 May 2018, 8:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी