Home » इंडिया » Karnataka: Laxman Savadi caught watching porn in assembly, BS Yediyurappa made deputy CM
 

कर्नाटक: विधानसभा में पोर्न देखते पकड़े गए थे जो नेता, BJP सरकार ने उन्हें बनाया उप-मुख्यमंत्री

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 August 2019, 13:10 IST

कर्नाटक में सरकार बचाने के लिए मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने राज्य में तीन उपमुख्यमंत्री नियुक्त किया है. येदियुरप्पा ने लक्ष्मण सावदी, गोविंद एम करजोल और अश्वथ नारायण को राज्य का उप-मुख्यमंत्री बनाया है. लेकिन इन तीनों मेें सबसे ज्यादा चौंकाने वाला नाम लक्ष्मण सावदी का है. सबसे पहली बात तो वह विधानसभा सदस्य भी नहीं हैं न ही वह विधान परिषद के सदस्य हैं.

लक्ष्मण सावदी को लेकर सबसे चौंकाने वाली जो बात है वह उनका 'पोर्न गेट' में नाम होना है. साल 2012 में कर्नाटक में बीजेपी की सरकार थी. डीवी सदानंद गौड़ा तब राज्य के मुख्यमंत्री थे. इस दौरान लाइव विधानसभा में सरकार के तीन मंत्री लक्ष्मण सवादी, सीसी पाटिल और कृष्णा पालेमार मोबाइल पर पोर्न वीडियो देखते पकड़े गए थे.

कर्नाटक विधानसभा की लाइव कार्यवाही के दौरान सामने आए इस वीडियो ने राजनीतिक हलकों में तूफान ला दिया था. इसके बाद विपक्ष में रही कांग्रेस पार्टी और जद(एस) के सदस्यों ने वीडियो देखते पकड़े गए तीनों मंत्रियों को सदन से निलंबित करने और अयोग्य घोषित करने की मांग की थी. हालांकि तब तीनों विधायक इस्तीफा देने के लिए तैयार नहीं थे.

तब सीएम गौड़ा ने खुद कहा था कि अगर वे तीनों इस्तीफा नहीं देंगे तो वो सीएम की कुर्सी छोड़ देंगे. आखिरकार तीनों विधायकों को इस्तीफा देना पड़ा था. अब जब सावदी को उप-मुख्यमंत्री बनाया गया है तो बीजेपी के ही कई नेता इस फैसले पर सवाल उठा रहे हैं. बीजेपी के विधायक रेनुकाचार्य ने सावदी को उप-मुख्यमंत्री बनाए जाने पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि आखिर चुनाव हारे व्यक्ति को इतना बड़ा पद देने की क्या जरूरत है?

वहीं, दूसरी तरफ सरकार के लोग सावदी को उप-मुख्यमंत्री बनाए जाने पर उनका बचाव कर रहे हैं. सरकार के लोग कह रहे हैं कि 'पोर्न गेट' अब पुरानी बात हो गई है. इसके लिए वो सजा भुगत चुके हैं. इस कारण उन्हें डिप्टी सीएम बनाए जाने पर अब किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए.

इतने क्यों खास हैं सावदी?

लक्ष्मण सावदी जिस लिंगायत समुदाय से आते हैं उस समुदाय के मौजूदा सीएम बीएस येडियुरप्पा भी हैं. येदियुरप्पा लिंगायत समुदाय के सबसे बड़े नेता हैं. हालांकि उनकी उम्र अब 76 साल हो गई है. मुश्किल है कि वह फिर से मुख्यमंत्री बनेंगे. बीजेपी के 105 विधायकों में से 38 विधायक लिंगायत समुदाय से हैं.

इसके अलावा लक्ष्मण सावदी का सगंठन पर काफी मजबूत पकड़ माना जाता है. महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष के वह काफी करीबी माने जाते हैं. मुंबई कर्नाटक क्षेत्र के आरएसएस के नेताओं के भी वह काफी करीबी माने जाते हैं.

उप-मुख्यमंत्री बनाए जाने पर लक्ष्मण सावदी ने एएनआई से बातचीत मेें कहा कि केंद्र और राज्य नेतृत्व ने उन पर भरोसा कर उन्हें डिप्टी सीएम बनाया है. वह पार्टी को और मजबूत बनाएंगे. उनकी सरकार अच्छा नाम करेगी. उन्होंने कहा कि उनकी ओर से पद नहीं मांगा गया था. पार्टी के सीनियर नेताओं ने उन्हें यह पद दिया है. वह इसे स्वीकार करते हैं.

कर्नाटक: सरकार बचाने के लिए CM येदियुरप्पा का नया पैंतरा, बनाए राज्य में तीन उपमुख्यमंत्री

एक दिन पहले पाकिस्तान ने दी थी परमाणु हमले की धमकी, उसी के एयरस्पेस से होकर वापस लौटे PM मोदी

First published: 28 August 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी