Home » इंडिया » Karnataka: Congress-JDS alliance begins to emerge within a month
 

कर्नाटक: कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के बीच एक महीने के भीतर उभरने लगे हैं मतभेद

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 June 2018, 14:50 IST

कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस की नई गठबंधन सरकार के बीच मतभेदों की आहट सुनाई देने लगी है. एक तरफ जहां कर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धारमैया चाहते हैं कि राज्य में 2013-14 और 2018 के बीच जारी कार्यक्रमों को जारी रखा जाए और नया बजट पेश न किया जाये वहीं सीएम एचडी कुमारस्वामी नए बजट के जरिये राज्य में अपनी नई छाप छोड़ना चाहते हैं.

कुमारस्वामी का कहना है कि राहुल गांधी की ओर से उन्हें बजट पेश करने की अनुमति मिल चुकी है. पूर्व मुख्यमंत्री और उनके कुछ समर्थकों ने जेडीएस के प्रयासों पर असंतोष व्यक्त किया है. सिद्धारमैया ने कहा है कि नई सरकार को एक नए बजट के बजाय सप्लीमेंटरी बजट पेश करना चाहिए. उन्होंने राज्य कांग्रेस अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर के नए बजट के समर्थन पर भी सवाल उठाया है.

कुमारस्वामी ने संकेत दिया है कि उन्हें पूर्ण बजट पेश करने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मंजूरी मिली है. उन्होंने यह भी कहा है कि पूर्व कांग्रेस सरकार के मौजूदा कार्यक्रम जारी रहेंगे. मुख्यमंत्री एच डी कुमारास्वामी का ने कहा कि ''बजट आना है लेकिन पेश हो पाएगा या नही इस पर लोग सवाल उठा रहे हैं''. दूसरी ओर सरकार 5 जुलाई को बजट पेश करना चाहती है. जबकि पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया का मंगलोर में इलाज करवा रहे है.

कर्जमाफी पर भी मतभेद

पूर्व सीएम जहां कर्ज माफी के पक्ष में नहीं है वहीं कर्नाटक में गठबंधन सरकार किसानों के 10,000 करोड़ रुपये का कर्ज माफ करने की बात यही है. 'किसानों के जिला सहकारी बैंकों और राज्य सहकारी बैंकों से लिए गए कर्ज को माफ़ करने से सरकार के खजाने पर 10,000 करोड़ रुपये असर पड़ेगा.

ये भी पढ़ें : खुशखबरी: अब नौकरी छोड़ने के 30 दिन बाद निकाल पाएंगे अपना PF का पैसा

First published: 27 June 2018, 14:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी