Home » इंडिया » Karnataka Election 2018 Result Live: Congress is ready to form government with these plan
 

कर्नाटक चुनाव रिजल्ट Live: BJP को गोवा-मेघालय दोहराने से रोकने के लिए कांग्रेस ने तैयार किया धांसू प्लान

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 May 2018, 10:54 IST

Karnataka Election Results 2018 Live Updates :  कर्नाटक में वोटों की गिनती शुरू हो चुकी है. शुरुआती रुझान में कांग्रेस बढ़त बनाती दिख रही है. हालांकि यह अभी सिर्फ बैलेटों की गिनती के ही आंकड़े हैं. लेकिन अगर कांग्रेस पार्टी आखिर तक बढ़त बनाकर रखती है तो उसकी सरकार बनती दिख रही है. हालांकि कांग्रेस पार्टी कर्नाटक के लिए फू्ंक-फूंककर कदम रख रही है.

 

नतीजों के एक दिन पहले ही कांग्रेस ने अपने दिग्गज नेता गुलाम नबी आजाद और अशोक गहलोत को कर्नाटक भेज दिया है. वह सोमवार शाम को ही बेंगलुरु पहुंच गए हैं. दरअसल, कांग्रेस किसी भी प्रकार से मणिपुर, गोवा और मेघालय जैसी चूक नहीं करना चाहती. ज्ञात हो कि गोवा, मणिपुर और मेघालय में कांग्रेस पार्टी ने भाजपा से ज्यादा सीटें जीती थीं लेकिन बीजेपी ने अपनी सरकार बना ली थी. इसे देखते हुए कांग्रेस सजग है.

 

बेंगलुरु पहुंचे गुलाम नबी आजाद ने कहा, "भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गुजरात में 150 सीटें जीतने का दावा किया था लेकिन उन्हें कितनी सीटें मिलीं? मुझे नहीं लगता कि यह बताने की जरूरत होती है कि आपको कितनी सीटें मिल रही हैं."

कांग्रेस अपने सर्वे के मुताबिक करीब 127 सीटें जीत रही है. बावजूद इसके पार्टी किसी चूक की स्थिति में मणिपुर, मेेघालय और गोवा की तरह बड़ी पार्टी बनने के बावजूद पिछड़ने की भूल दोहराना नहीं चाहती. कांग्रेस की निगाह निर्दलियों पर भी है. कांग्रेस हर सूरत में कर्नाटक के किले को अपने पास ही बरकरार रखना चाहती है.

पार्टी ने इसके लिए धांसू प्लान तैयार किये हैं. इस प्लान के अनुसार कांग्रेस को अगर बहुमत मिलता है तो सिद्धारमैया ही सीएम बनेंगे. वहीं कांग्रेस अगर बहुमत से दूर रहती है तो सिद्धारमैया के उस भरोसे पर टिकी है जिसमें उन्होंने निर्दलीय, गैर बीजेपी और गैर जेडीएस विधायकों का साथ जुटाने का दावा किया है.

पढ़ें- कर्नाटक चुनाव रिजल्ट Live: आज होगा फैसला, मोदी का चलेगा जादू या राहुल जीतेंगे रण

अगर कांग्रेस का यह प्लान भी नहीं चलता और वह काफी कम सीटें पाती है तो हर कीमत पर उसकी कोशिश बीजेपी को सत्ता से दूर रखने की होगी. ऐसे में वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के नाम को आगे करके उनके नाम पर जेडीएस का साथ लेने की कोशिश होगी. क्योंकि जेडीएस मुख्यमंत्री के लिए सिद्धारमैया के नाम पर राजी नहीं होगी.

First published: 15 May 2018, 9:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी