Home » इंडिया » Karnataka Election result: ghulam nabi azad says if governor not calles congress and JDS tha there will be struggle
 

कर्नाटक चुनाव: राज्यपाल ने कांग्रेस-जेडीएस को नहीं बुलाया तो करेंगे खूनी संघर्ष

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 May 2018, 15:34 IST

कर्नाटक में सत्ता को लेकर सियासत जारी है. एक ओर बीजेपी 104 सीट जीत कर भी बहुमत नहीं हासिल कर पाई. वहीं उसरी तरफ कांग्रेस और जेडीएस भी सत्ता के लिए सारे हथकंडे आजमाते नजर आ रहे हैं. सत्ता की इस लड़ाई में पार्टियों के बीच आरोपों का सियासी पारा चढ़ता जा रहा है.

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने बेंगलुरु में मौजूद बीजेपी पर आरोप लगाया है कि उनके विधायकों को डराया धमकाया जा रहा है. उनके विधायकों पर दबाव बनाया जा रहा है. आज़ाद ने कहा कि बीजेपी को लोकतंत्र पर भरोसा नहीं है इसीलिए वो इस तरह के हथकंडे अपना रही है.

कर्नाटक में सत्ता को लेकर सियासत जारी है. एक ओर बीजेपी 104 सीट जीत कर भी बहुमत नहीं हासिल कर पाई. वहीं उसरी तरफ कांग्रेस और जेडीएस भी सत्ता के लिए सारे हथकंडे आजमाते नजर आ रहे यहीं. सत्ता की इस लड़ाई में पार्टियों के बीच आरोपों का सियासी पारा चढ़ता जा रहा है.

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने बेंगलुरु में मौजूद बीजेपी पर आरोप लगाया है कि उनके विधायकों को डराया धमकाया जा रहा है. उनके विधायकों पर दबाव बनाया जा रहा है. आज़ाद ने कहा कि बीजेपी को लोकतंत्र पर भरोसा नहीं है इसीलिए वो इस तरह के हथकंडे अपना रही है.

ये भी पढ़ें- राज्यपालों के इन फैसलों ने किसी को दिलाई सत्ता और किसी को किया बाहर

आजाद ने कहा,''अगर राज्यपाल ने संवैधानिक मूल्यों का पालन नहीं किया और हमें सरकार बनाने के लिए निमंत्रित नहीं किया, तो यहां खूनी संघर्ष होगा.'' आगे उन्होंने कहा कि कांग्रेस विधायकों के असंतुष्ट होने की खबरें अफवाह हैं, सच तो ये है कि वास्तव में बीजेपी असंतुष्ट है.

ये भी पढ़ें- कर्नाटक : BJP विधायक दल के नेता चुने गए येदियुरप्पा, आज राज्यपाल से मिलकर कल से सकते हैं शपथ

 

इसी बीच कांग्रेस के एक और विधायक ने भी बीजेपी पर आरोप लगाया है, कांग्रेस विधायक अमरेगौड़ा ने कहा है कि बीजेपी ने उन्हें कैबिनेट मंत्री के पद का ऑफर दिया था, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया. कांग्रेस के ये विधायक अमरेगौड़ा लिंगनागौड़ा पाटिल बयापुर कर्नाटक के कुश्तगी से विधायक हैं.

आजाद ने आगे कहा,''राज्य की सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी बीजेपी के पास बहुमत का आंकड़ा नहीं है. बीजेपी के पास 104 सीटें हैं, हमारे (कांग्रेस-जेडीएस) पास 117 सीटें हैं.''

राज्यपाल के फैसले को लेकर आज़ाद ने कहा की राज्यपाल पक्षपात नहीं कर सकते हैं. साथ ही उन्होंने सवाल भी उठाया,''एक आदमी जो संविधान को बचाने के लिए राजभवन में बैठा है, उसे नष्ट कर देगा? एक राज्यपाल को अपने सभी पुराने संबंध खत्म कर देने होते हैं, चाहे वो बीजेपी हो या राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ.'' गौरतलब है कि राजनीतिक कयासों के बीच आखिर कर्नाटक में किसकी सरकार बनेगी.

First published: 16 May 2018, 15:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी