Home » इंडिया » Karnataka Government Dispute between Congress and JDS over distribution of Ministry KPCC MB Patil Summons to Delhi
 

कर्नाटकः कांग्रेस-JD(S) में घमासान के बीच एमबी पाटिल को किया तलब

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 June 2018, 9:49 IST

कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस सरकार के बीच खींचतान जारी है. इसी बीच कांग्रेस हाई कमान ने कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यवाहक अध्यक्ष एमबी पाटिल को दिल्ली तलब किया गया है. इसके बाद पाटिल के दिल्ली रवाने होने की खबर हैं. बता दें कि पाटिल के समर्थन में पार्टी के सात से आठ विधायक हैं. ऐसा माना जा रहा है कि ये नाराज विधायक भी पाटिल के साथ दिल्ली रवाना हुए हैं.

कर्नाटक में पूर्व मंत्री एमबी पाटिल को लिंगायत का बड़ा नेता माना जाता है. कैबिनेट में जगह ना दिए जाने से पाटिल पार्टी से नाराज है. पाटिल ने अपने लिए सिंचाई मंत्रालय की मांग की थी. पाटिल को कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष पद का दावेदार भी माना जा रहा है. पाटिल पार्टी से इस बात को लेकर भी नाराज हैं. जो बीजेपी द्वारा फैलाई जा रही है अफवाह जिसमें कहा जा रहा है कांग्रेस लिंगायत वोट की वजह से चुनाव हारी.

पाटिल के एक करीबी नेता का कहना है कि कर्नाटक चुनाव में कांग्रेस ने लिंगायत बहुल 90 सीटों में से 42 सीटों पर जीत दर्ज की है, जबकि साल 2008 में यहां पार्टी को सिर्फ 26 सीटों पर ही जीत मिली थी. उस समय चुनाव लिंगायत की अस्मिता को लेकर लड़ा गया था. वहीं जब साल 2013 में लिंगायत वोट बंट गया, तब कांग्रेस ने 56 सीटों पर जीत दर्ज की थी. इस लिहाज से देखा जाए तो लिंगायत बहुल इलाके में इस बार कांग्रेस का प्रदर्शन बुरा नहीं रहा.

बता दें कि पाटिल के अलावा पार्टी से विधायक एनए हैरिस समेत कई और कांग्रेस विधायक नाराज चल रहे हैं. हैरिस को मंत्री पद दिए जाने की मांग को लेकर उनके समर्थकों ने कांग्रेस दफ्तर के बाहर नारेबाजी भी की थी. इसके बाद हैरिस को मनाने कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और उपमुख्यमंत्री जी. परमेश्वर उनके घर पहुंचे थे.

वहीं इस मामले में कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी का कहना है कि कुछ टेंशन जरूर है, लेकिन हमें उम्मीद है कि कांग्रेस नेता सही निर्णय लेंगे.

गौरतलब है कि बीते बुधवार को मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की मौजूदगी में राज्यपाल वजुभाई वाला ने 25 विधायकों को कैबिनेट के मंत्री पद की शपथ दिलाई थी. कर्नाटक कैबिनेट में जेडीएस के नौ और कांग्रेस के 14 विधायक शामिल हुए. वहीं मायावती की पार्टी बसपा के एकमात्र विधायक और एक निर्दलीय को भी कैबिनेट में जगह दी गई है.

इसी के साथ सीएम एचडी कुमारस्वामी ने मंत्रालय का बंटवारा भी कर दिया है. उन्होंने वित्त, खुफिया, सूचना एवं जनसंपर्क, ऊर्जा और कपड़ा समेत अन्य विभाग को अपने पास रखे हैं.

वहीं कांग्रेस के रमेश जरकीहोली को म्युनिसिपैलिटी विभाग, सी पुत्तरंगा शेट्टी को पिछड़ा वर्ग कल्याण और जयमाला को महिला एवं शिशु विकास और कन्नड कल्चर विभाग दिया गया है. वहीं जेडीएस के वेंकटराव को पशुपालन विभाग और निर्दलीय आर शंकर को वन एवं पर्यावरण मंत्री बनाया गया है.

ये भी पढ़ें- कर्नाटक में नाटक: मंत्री नहीं बनाया तो कई विधायक हुए नाराज, कुमारस्वामी की बढ़ी टेंशन

First published: 9 June 2018, 9:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी