Home » इंडिया » Karnataka result case hearing in supreme court today congress jds bjp yeddyurappa government
 

कर्नाटक: येदियुरप्पा की किस्मत का फैसला आज, सुप्रीम कोर्ट से मिलेगी राहत या जाएगी कुर्सी!

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 May 2018, 8:43 IST

कर्नाटक में येदियुरप्पा सरकार के गठन को लेकर कांग्रेस ने राज्यपाल के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दी है जिस पर शुक्रवार सुबह साढ़े 10 बजे सुनवाई होगी. जस्टिस सीकरी, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस बोबडे की तीन जजों की बेंच मामले की सुनवाई करेगी.

बता दें कि कर्नाटक चुनाव में बीजेपी को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38 सीटें मिली थीं. इसके बाद कांग्रेस और जेडीएस ने पोस्ट पोल अलायंस कर सरकार बनाने का दावा किया था. इसे लेकर दोनों पार्टियों ने कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला को पत्र भी सौंपा था लेकिन राज्यपाल ने सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते बीजेपी को सरकार बनाने का न्यौता दिया था.

 

इसे लेकर दोनों पार्टियों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. दोनों दलों ने राज्यपाल के फैसले को चुनौती दी थी और बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के दावेदार बीएस येदियुरप्पा को शपथ ग्रहण को रोक देने की बात कही थी. लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस के इस मांग को मानने से इनकार कर दिया था और कहा था कि वह शपथ ग्रहण कार्यक्रम नहीं रोक सकता.

हालांकि कोर्ट ने ये भी कहा था कि येदियुरप्पा को वो चिट्ठी सौंपनी होगी जो उन्होंने राज्यपाल को देने का दावा किया था जिसमें विधायकों के समर्थन का दावा किया गया था. देर रात दो बजकर 11 मिनट से गुरुवार सुबह पांच बजकर 28 मिनट तक चली सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने ने यह स्पष्ट किया कि राज्य में शपथ ग्रहण और सरकार के गठन की प्रक्रिया उस के समक्ष लंबित मामले के अंतिम फैसले के दायरे में आएगी.

 

तीन जजों की बेंच ने आदेश दिया था कि बीजेपी ने कर्नाटक में सरकार बनाने का दावा करने के लिए राज्यपाल वजुभाई वाला के समक्ष विधायकों के समर्थन का जो पत्र दिया है वह उसके समक्ष पेश किया जाए. कोर्ट ने अटॉर्नी जनरल और येदियुरप्पा से राज्यपाल को बहुमत के समर्थन वाली चिट्ठी पेश करने के निर्देश दिए थे.

पढ़ें- कर्नाटक का बदला लेने कांग्रेस ने बनाया 'गोवा प्लान', आरजेडी का भी मिला साथ

सुप्रीम कोर्ट में कोर्ट में कर्नाटक से जुड़ी एक और याचिका पर सुनवाई होनी है. इस याचिका में विधानसभा में फ्लोर टेस्ट तक एक एंग्लो इंडियन विधायक को मनोनीत न करने की मांग की गई है. दरअसल यह मनोनयन राज्यपाल द्वारा मुख्यमंत्री और मंत्रिमंडल की सलाह पर किया जाता है.

First published: 18 May 2018, 8:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी