Home » इंडिया » Karntaka result: BJP wins but govt formation is upto governor congress jds alliance or bjp
 

कर्नाटक चुनाव: राज्यपाल के फैसले पर संस्पेंस बरकरार, गुजरात की तरह रिसॉर्ट पॉलिटिक्स के आसार

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 May 2018, 10:04 IST

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित हो गए हैं. सीटों के आधार पर बीजेपी 104 सीटें जीतकर सबसे पार्टी के रूप में उभरी लेकिन बहुमत के आंकड़ों से 8 सीट पीछे रह गयी. बीजेपी ने तुरंत सरकार बनाने का दावा तो पेश कर दिया है लेकिन दूसरी तरफ कांग्रेस ने जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) को बिना शर्त समर्थन की पेशकश की और पूर्व पीएम एचडी देवेगौड़ा के बेटे कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री बनाने पर सहमति जता दी.

कर्नाटक के इस त्रिकोणीय मुकाबले में जेडीएस ने भी सरकार बनाने को लेकर अपनी दावेदारी पेश कर दी. कर्नाटक नतीजों के बाद यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने देवेगौड़ा और बेंगलुरू पहुंचे वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद से बात की. गोवा और मेघालय विधानसभा चुनाव नतीजों से सबक लेते हुए सोनिया ने अपने नेता सिद्धरमैया से कुमारस्वामी के समर्थन की औपचारिक चिट्ठी भेजने को कहा.

राज्यपाल के हाथों में सत्ता का फैसला

दोनों सरकारों के दावे के बाद अब राज्यपाल पर नजरें टिकी हुई हैं. वो किसे पहले सरकार बनाने का न्योता देते हैं. फिलहाल राज्यपाल वजुभाई वाला की ओर से किसी भी तरह का कोई संकेत नहीं दिया गया है.

ये भी पढ़ें- कर्नाटक चुनाव: जल्दबाजी कर गए ओवैसी, कुमारस्वामी को दी CM पद की बधाई

हालांकि माना जा रहा है कि सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते वह बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता देंगे. मणिपुर और गोवा में चुनाव बाद बने गठबंधन के आधार पर अगर कांग्रेस-जेडीएस को सरकार बनाने का न्योता दिया जाता है तो इन दोनों दलों को सरकार बनाने में कोई दिक्कत नहीं होगी.

इस बीच, कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला निर्णय लेने में एक या दो दिन लगा सकते हैं. आने वाले कुछ दिनों में लोग ‘रिसॉर्ट पॉलिटिक्स’ का नजारा देख सकते हैं. इससे पहले वर्ष 2004 से 2008 के बीच भी इस तरह का माहौल बना था.

इस बीच, राज्यपाल वाला से मुलाकात के बाद केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार के साथ येदियुरप्पा ने संवाददाताओं से कहा, ‘भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है. हमने राज्यपाल से बहुमत साबित करने का अवसर देने का आग्रह किया है.’ पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा की अगुवाई वाले जेडीएस को समर्थन देने की कांग्रेस की पेशकश के मुद्दे पर भाजपा नेताओं ने कहा, ‘जनता ने कांग्रेस मुक्त कर्नाटक का जनादेश दिया है.

ये भी पढ़ें- RTI में खुलासा: मोदी सरकार ने प्रचार पर बहाए 4300 करोड़ रुपये

कर्नाटक के नतीजों के बाद पीएम ने भाजपा मुख्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यह जीत इस मायने में महत्वपूर्ण है कि ऐसी छवि बना दी गई थी कि भाजपा उत्तर भारत की पार्टी है, हिंदी भाषी क्षेत्र की पार्टी है. अब न गुजरात हिंदी भाषी है, न असम, न गोवा, न पूर्वोत्तर का ही कोई क्षेत्र हिंदी भाषी है. लेकिन लोगों में यह धारणा बनाने का प्रयास किया गया, एक झूठ फैलाया गया.’

पीएम ने कहा, ‘भाजपा किसी को कर्नाटक की विकास यात्रा को रौंदने नहीं देगी.’ उन्होंने कहा कि कर्नाटक की जनता ने भाषा के भेद को समाप्त किया और प्रचार के दौरान धूप में उनकी बातें ध्यान से सुनीं. उन्होंने अमित शाह की रणनीति को सराहा.

First published: 16 May 2018, 10:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी