Home » इंडिया » Kartarpur Corridor: india conveys concerns to pakistan over presence of khalistani separatists on panel
 

करतारपुर: पाकिस्तान की दोगली नीति के कारण भारत ने रोकी अगले चरण की बातचीत

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 March 2019, 17:10 IST

पाकिस्तान की दोगली नीति के कारण भारत ने करतारपुर साहिब कॉरिडोर को लेकर बातचीत रोक दी है. करतारपुर मामले पर पाकिस्तान द्वारा बनाई गई कमिटी में कई खालिस्तानी अलगाववादियों को शामिल किए जाने को लेकर भारत ने कड़ा रुख अख्तियार किया है. भारत ने आपत्ति जताते हुए इसे लेकर पाकिस्तान से स्पष्टीकरण की मांग की है और कहा है कि जबतक पड़ोसी देश स्पष्ट जवाब नहीं देता, तबतक करतारपुर कॉरिडोर के मुद्दे पर देशों के बीच अगले चरण की बातचीत नहीं होगी.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत ने आज पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त सईद हैदर शाह को तलब किया और करतारपुर पर बनी कमिटी में खालिस्तानी अलगाववादियों को शामिल करने पर आपत्ति दर्ज कराई है. भारत ने पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त से यह भी कहा है कि करतारपुर कॉरिडोर को शुरू करने के बारे में नई दिल्ली के प्रस्ताव पर इस्लामाबद अपना रुख को स्पष्ट करे.

भारतीय विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर बताया कि कॉरिडोर के तौर-तरीकों को लेकर पाकिस्तान का जवाब मिलने के बाद दोनों देशों के बीच होने वाली बैठक किसी उचित वक्त पर आयोजित की जा सकती है. भारत-पाक के बीच अगले चरण की बातचीत वाघा बॉर्डर पर 2 अप्रैल को पूर्व नियोजित थी.

गौरतलब है कि पिछले साल नवंबर में भारत और पाकिस्तान करतारपुर के गुरुद्वारा साहिब को पंजाब के गुरदासपुर जिले स्थित डेरा बाबा नानक गुरद्वारा से जोड़ने के लिए कॉरिडोर बनाने पर सहमत हुए थे. पाकिस्तान स्थित करतारपुर में ही गुरु नानक देव ने देह त्यागी थी. करतारपुर साहिब पाकिस्तान के नारोवल जिले में स्थित है. 26 नवंबर को उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गुरदासपुर जिले में करतारपुर कॉरिडोर का शिलान्यास किया था. उसके 2 दिन बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाक स्थित नरोवल में कॉरिडोर का शिलान्यास किया था.

First published: 29 March 2019, 17:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी