Home » इंडिया » Kashmiri IAS topper Shah Faesal resigns from civil services set to join politics
 

कश्मीर से पहले IAS टॉपर शाह फैसल ने इस वजह से छोड़ दी देश की सबसे प्रतिष्ठित नौकरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 January 2019, 17:10 IST

जम्मू-कश्मीर राज्य से साल 2009 में देश की सबसे प्रतिष्ठित सिविल सेवा परीक्षा टॉप करने वाले आईएएस अधिकारी शाह फ़ैसल इस्तीफा दे दिया है. शाह फैसल ने घाटी में हिंसा के कारण हो रही हत्याओं के विरोध में अपने पद से इस्तीफ़ा देने का ऐलान किया है. उन्होंने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट पर इसकी जानकारी दी.

शाह फैसल ने ट्विटर पर लिखा, "कश्मीर में बेरोक हत्याओं और केंद्र सरकार से किसी भी विश्वसनीय राजनीतिक पहल के अभाव में, मैंनेआईएएस पद से इस्तीफ़ा देने का फैसला किया है. कश्मीरियों की ज़िंदगी मायने रखती है."

 

शाह फैसल के इस ऐलान के बाद एक बार वह फिर चर्चा में आ गए हैं. माना जा रहा है कि उन्होंने इसलिए इस्तीफा दिया है ताकि वह साल 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ सकें. कहा जा रहा है कि वो नेशनल कॉन्फ्रेंस जॉइन करने वाले हैं और उनकी घाटी की बारामुला चुनावी सीट पर नजर है.

पढ़ें- राज्यसभा में पास भी नहीं हुआ सवर्ण आरक्षण बिल, उधर मोदीजी लूटने लगे वाहवाही !

उनके इस फैसले के बाद नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने एक ट्वीट कर स्वागत किया. अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, "ब्यूरोक्रेसी का ये नुकसान राजनीति के लिए फ़ायदेमंद होगा. स्वागत है आपका." इसके बाद से ही अनुमान लगाया जा रहा है कि वह नेशनल कांफ्रेंस ज्वाइन कर सकते हैं.

बता दें कि कुछ दिनों पहले भी फैसल शाह चर्चा में रहे हैं. पिछले साल जुलाई में उन्होंने एक विवादित ट्वीट किया था. देश में रेप की बढ़ती घटनाओं पर उन्होंने ट्वीट किया था, "पितृसत्ता + जनसंख्या + निरक्षरता + शराब + पोर्न + टेक्नालॉजी + अराजकता = रेपिस्तान"

पढ़ें- ट्रेन में नाराज हुआ शौहर तो तीन बार तलाक बोलकर भागा, फिर रोती-बिलखती बीवी ने उठाया ऐसा कदम..

फैसल शाह के इस ट्वीट के बाद बवाल मच गया था. ट्वीट को लेकर उनके खिलाफ नोटिस भी जारी कर दिया गया था. हालांकि फैसल अपनी बात पर अड़े रहे थे और अफसरों के बोलने की आजादी का मुद्दा भी उठाया था. उन्होंने अपना गुस्सा ज़ाहिर करते हुए कहा था कि उन्हें अपनी नौकरी जाने कोई डर नहीं है. उन्होंने कहा था, "मेरी नौकरी जा सकती है. लेकिन दुनिया संभावनाओं से भरी है."

First published: 9 January 2019, 17:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी