Home » इंडिया » Kashmiri leaders concern about extra security forces in kashmir valley
 

जम्मू-कश्मीर में अतिरिक्त जवानों की तैनाती के फैसले पर कश्मीरी नेताओं ने जताई चिंता

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 July 2019, 14:22 IST

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर में 10 हजार अतिरिक्त सैनिक भेजने के फैसला लिया है. जिस पर कश्मीर के नेताओं की चिंता बढ़ गई है. गृह मंत्रालय ने ये फैसला एनएसए यानि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की सीक्रेट जम्मू-कश्मीर यात्रा के बाद लिया है. गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को इस पर फैसला ले लिया है कि कश्मीर घाटी में CRPF की अतिरिक्त 100 कंपनियों को तैनात किया जाएगा

 गृह मंत्रालय के इस फैसले के बाद कश्मीरी नेताओं की चिंता बढ़ गई है. सबसे पहले पूर्व आईएएस अधिकारी और जम्मू-कश्मीर पीपल्स मूवमेंट (जेकेपीएम) के अध्यक्ष शाह फैसल ने चिंता जताई है. उन्होंने कहा है कि जम्मू में इस बात को लेकर अफवाह है कि घाटी में कुछ बड़ा होने वाला है.

पूर्व आईएएस शाह फैसल ने ट्वीट कर कहा, "गृह मंत्रालय की ओर से कश्मीर में सीआरपीएफ के 100 अतिरिक्त जवानों की कंपनी तैनात करना चिंता पैदा कर रहा है. इसके बारे में किसी को जानकारी नहीं है.” यही नहीं उन्होंने ट्वीट में लिखा कि इस बात की अफवाह है कि घाटी में कुछ बड़ा भयानक होने वाला है. उन्होंने सवाल उठाया कि क्या यह अनुच्छेद 35ए को लेकर हैबता दें कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा कि कश्मीर घाटी में सीआरपीएफ की 50, बीएसएफ की 10, एसएसबी की 30, आईटीबीपी की 10 अतिरिक्त कंपनियां तैनात की जाएंगी.

वहीं जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने भी एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, "क्या सरकार यह स्पष्ट करेगी कि जब 35ए की बात चल रही है, तो जम्मू कश्मीर में सरकार अतिरक्त सुरक्षा बल भेजकर आग भड़काने का प्रयास कर रही है.

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों का आतंकवादियों पर एक और प्रहार, शोपियां मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर

First published: 27 July 2019, 14:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी