Home » इंडिया » Kathua rape case: Delhi high court orders to remove all the news items which reveals the identity of victim
 

कठुआ गैंग रेप: दिल्ली हाई कोर्ट का आदेश, हटाए जाएं पीड़िता की पहचान उजागर करने वाले सारे न्यूज़ आइटम्स

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 May 2018, 15:02 IST

कठुआ गैंगरेप और मर्डर मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने एक और फैसला दिया है. कोर्ट के आदेश दिया है कि सभी न्यूज़ आइटम से वो सारी डिटेल्स हटा दी जाएं जिनमे पीड़िता की पहचान का खुलासा हुआ है. इस मामले में अगली सुनवाई के लिए कोर्ट ने 16 जुलाई की तारीख दी है.

गौरतलब है कि कठुआ मामले में पीड़िता की पहचान उजागर करने वालों के खिलाफ पहले भी सख्त कदम उठाये जा चुके हैं. जिनमे पीड़िता का नाम या तस्वीर उजागर करने वालों को 10 लाख का जुर्माना भरने के आदेश थे.

 

 

इसके पहले कठुआ मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने गूगल, फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब को नोटिस जारी था. कोर्ट ने कहा था कि गूगल और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म ने ऐसी सामग्री अपलोड करके देश का बड़ा नुकसान किया है, जिससे कठुआ बलात्कार और हत्या मामले की पीड़ित बच्ची की पहचान का खुलासा हुआ.

ये भी पढ़ें- कठुआ गैंगरेप: दिल्ली हाईकोर्ट का Google, Facebook और Twitter को नोटिस

बता दें कि अदालत ने इससे पहले पीडिता और उसके परिवार की पहचान उजागर करने पर इन कंपनियों से जवाब मांगा था. इस पर इन सोशल मीडिया कंपनियों की भारतीय सहायक कंपनियों ने पीठ से कहा कि वे मुद्दे पर अदालत के नोटिस का जवाब देने के लिए संबंधित इकाई नहीं हैं.

इस पर कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति हरिशंकर की पीठ ने कहा , ‘आपने देश का बड़ा नुकसान किया है. यह देश और पीड़ित परिवार के साथ एक अन्याय है. इस तरह के प्रकाशन की अनुमति नहीं है.’

इसके साथ हीं पीठ ने यह भी कहा था कि वाट्सऐप पर भारत की छवि खराब करने वाले संदेश और तस्वीरें प्रसारित की गई. इकाइयां अपनी वेबसाइटों पर अवैध गतिविधियों से पल्ला नहीं झाड़ सकती और कानून सभी के लिए बराबर है.

ये भी पढ़ें- कठुआ गैंगरेप केस: भाजपा ने जारी किया भड़काऊ वीडियो, क्राइम ब्रांच पर लगाए आरोप

पीठ ने इसके साथ ही प्रेस काउंसिल और इंडिया ( पीसीआई ) द्वारा प्रेस काउंसिल कानून के तहत कुछ मीडिया हाउस के खिलाफ बलात्कार मामले में पीड़ित बच्ची की पहचान का खुलासा करने के लिए शुरू की गई कार्यवाही पर रोक लगा दी. गौरतलब है कि अदालत ने मामले की आगे की सुनवाई 29 मई यानी आज के दिन को करना तय किया था.

आज दिल्ली हाई कोर्ट ने सुनवाई के दौरान ये फैसला दिया है कि हर न्यूज़ आइटम से पीड़िता की पहचान उजागर करने वाली सारी साम्रगी को हटा दिया जाये. इस मामले में लिस्टेड केस की सुनवाई के लिए कोर्ट ने अगली तारिख 16 जुलाई की रखी है.

First published: 29 May 2018, 14:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी