Home » इंडिया » Kaushambi: Dalit women officer refused water by Gram pradhan and VDO
 

दलित होने के कारण महिला अधिकारी को प्रधान और VDO ने पानी पिलाने से किया इनकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 August 2018, 10:24 IST

एक तरफ हम चांद पर पहुंचने की बात करते हैं वहीं दूसरी तरफ छुआछूत और जातिवाद जैसी भयानक बीमारी से जड़के हुए हैं. छुआछूत को खत्म करने के लिए तमाम कानून बनाये गए हैंं लेकिन जाति व्यवस्था में जकड़ा समाज अभी भी इस बुराई से निकल नहीं पा रहा है. ऐसा ही एक मामला यूपी के कौशाम्बी जिले में देखने को मिला जहां एक महिला अधिकारी को सिर्फ इसलिए बर्तन में पानी नहीं पिलाया गया क्योंकि वह दलित थीं.

कौशाम्बी में उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. सीमा विकास कार्यों का जायजा लेने एक गांव पहुंची थीं लेकिन दलित होने की वजह से उनको बर्तन में पानी नहीं पिलाया गया. इस मामले में छह लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. आरोपियों में तीन ग्राम प्रधान, सेक्रेटरी, वीडीओ और कोटेदार शामिल हैं. 

पढ़ें- साध्वी प्राची बोलीं- हलाला से बचने के लिए मुस्लिम महिलाएं धर्म बदलकर करें हिंदुओं से शादी

डॉ. सीमा ने बताया कि जिला पंचायत राज अधिकारी (डीपीआरओ) के निर्देश पर मंगलवार को वह विकास कार्यों की समीक्षा करने सदर ब्लॉक के अंबावां पूरब गांव गई थीं. अधिकारी ने बताया कि वह बॉटल का पानी अपने साथ लेकर गई थीं लेकिन वहां उनकी बॉटल का पानी खत्म हो गया. इस पर उन्होंने वहां मौजूद ग्राम प्रधान, वीडीओ और कोटेदार से पानी मांगा.

इसके बाद सभी ने दलित होने की वजह से बर्तन में पानी देने से इनकार कर दिया. अधिकारी ने बताया कि जब उन्होंने पास मौजूद ग्रामीणों से पानी मांगा तो उन्हें भी इशारा करके मना कर दिया गया. एक क्षेत्र पंचायत सदस्य ने साफ कह दिया कि बर्तन में पानी देने से बर्तन अशुद्ध हो जाएगा. इसके बाद पानी नहीं मिलने की वजह से डॉ. सीमा की तबीयत बिगड़ गई. बीते बुधवार को पीड़ित अफसर ने जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा को इसके खिलाफ शिकायती पत्र दिया.

पढ़ें- सरकारी बंगले में तोड़फोड़ पर अखिलेश यादव से योगी सरकार वसूलेगी 10 लाख जुर्माना !

इसके बाद डीएम के निर्देश पर एसपी प्रदीप गुप्ता ने अंबावां पूरब ग्राम प्रधान शिवसंपत, सेक्रेटरी रविदत्त मिश्र, बीडीसी झल्लर तिवारी, कोटेदार राजेश सिंह, भइला मकदूमपुर प्रधान पति पवन यादव व संइबसा प्रधान अंसार अली के खिलाफ अनुसूचित जाति/जनजाति निश्पृश्यता अधिनियम के तहत नगर कोतवाली में केस दर्ज करा दिया है.

First published: 2 August 2018, 10:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी