Home » इंडिया » Kejriwal in Punjab: entices youth with manifesto, crosses swords with Akalis
 

युवा और नशे के इर्दगिर्द सियासत बुन रहे अरविंद केजरीवाल

राजीव खन्ना | Updated on: 6 July 2016, 7:07 IST

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने एक व्यापक कार्यक्रम के जरिये राज्य के युवाओं तक अपनी बात पहुंचाने और उन्हें लुभाने का प्रयास प्रारंभ किया है. उनकी पार्टी 51 बिंदुओं पर केंद्रित एक युवा घोषणापत्र सामने लाई है, जो नशीली दवाओं के खतरों से निबटने और रोजगार के नए अवसर तैयार करने पर केंद्रित है. आगामी विधानसभा चुनावों में राज्य में विजयी परचम लहराने का आप का सपना बहुत हद तक सूबे के असंतुष्ट युवाओं पर निर्भर है.

केजरीवाल ने वायदा किया है कि राज्य में आप की सरकार बनने के एक महीने के भीतर ही पंजाब में नशीले पदार्थों की सप्लाई करने वाली श्रृंखला को तोड़ दिया जाएगा. नशीले पदार्थों के आवागमन और बिक्री पर काबू पाने के लिये पंजाब पुलिस के तहत ही एक विशेष ड्रग टास्क फोर्स का गठन होगा. इस धंधे में शामिल राजनेताओं और शीर्ष नौकरशाहों की संलिप्तता की भी उच्च स्तरीय जांच की जाएगी और दोषियों को जेल भेजने के अलावा  उनकी संपत्ति जब्त की जाएगी.

पंजाब में स्वराज पार्टी का घोषणापत्र: हर्बल नशे को अपराधमुक्त किया जाय

अमृतसर में यूथ घोषणापत्र जारी करने के बाद एक रैली को संबोधित करते हुए अरविंद केजरीवाल ने एक महीने के भीतर मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया को जेल भेजने का वायदा किया. मजीठिया और आप के नेता राज्य में नशीले पदार्थों के मुद्दे को लेकर आपस में उलझते रहे हैं. आप नेता मजीठिया पर नशीले पदार्थों के व्यापार में शामिल होने का आरोप लगाते हुए उन्हें ‘‘नशीली दवाओं का भगवान‘‘ कहते हैं.

आप ने लोगों से वायदा किया है कि वह लोगों पर शिरोमणि अकाली दल (शिअद)-बीजेपी गठबंधन द्वारा लगाए गए एनडीपीएस एक्ट सहित दूसरे झूठे मामलों को भी वापस ले लेगी. पार्टी राज्य में 24 घंटे हेल्पलाइन सेवा शुरू करेगी जहां लोग नशीले पदार्थोंं के काम में लगे लोगों की शिकायत दर्ज करवा सकेंगे. पार्टी मानना है कि ऐसा होने पर पंजाब का हर निवासी नशीले पदार्थों का काम करने वालों के खिलाफ सक्रिय भूमिका निभा सकेगा और इस सप्लाई चेन से जुड़े लोगों में कानून का डर बैठेगा.

आम आदमी पार्टी विशेष ड्रग टास्क फोर्स के गठन का वादा किया है

पार्टी ने नशीले पदार्थों के काम में लगे डीलरों के लिये मरने तक आजीवन कारावास वाले एक विशेष कानून को लागू करने के साथ उनकी संपत्ति को जब्त कर उसे नीलाम करने का वायदा किया है. नशा छोड़ने वाले सभी लोगों को सरकारी शैक्षणिक संस्थानों और खेल अकादमियों में उनकी योग्यता के अनुसार प्रवेश देने का भरोसा भी दिया जा रहा है. यूथ घोषणापत्र में सभी सरकारी नशा मुक्ति और पुनर्वास केंद्रों में प्रशिक्षित मनोचिकित्सकों की मदद से निःशुल्क इलाज का वायदा भी किया जा रहा है.

क्या ड्रग तस्करी की वजह से हुआ पठानकोट हमला?

आप पार्टी सभी स्थानीय निकायों और पंचायतों के चुनाव लड़ने वालों से एक हलफनामे पर अनिवार्य रूप से हस्ताक्षर करवाएगी जिसमें प्रत्याशियों को खुद के नशे से दूर होने का भरोसा देना होगा. घोषणापत्र के अनुसार, ‘‘हम रिप्रेजेंटेशन आॅफ पीपल्स एक्ट (केंद्र सरकार का कानून) में उपयुक्त बदलाव करने के लिये भी जागरुकता फैलाएंगे ताकि लोकसभा और विधानसभा चुनाव लड़ने के इच्छुक सभी व्यक्तियों को भी ऐसे ही हलफनामों पर हस्ताक्षर करना अनिवार्य किया जा सके.’’

घोषणापत्र आगे कहता है, ‘‘उम्मीदवारों द्वारा चुनाव के लिये अपना नामांकन दाखिल करते समय जिलाधिकारी या मुख्य चिकित्सा अधिकारी की मौजूदगी में उनके रक्त और मूत्र के नमूनों का औचक परीक्षण करवाया जाएगा ताकि निर्वाचित प्रतिनिधि राज्यभर मेे नशा विरोधी माहौल और स्वाभाव को बढ़ावा देकर एक सकारात्मक उदाहरण पेश कर सकें.’’

इसके अलावा पार्टी दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक की तर्ज पर राज्य के प्रत्येक गांव में ‘आधुनिक पेंडु सेहत क्लीनिक’ की स्थापना करना चाहती है. साथ ही इनका इरादा एशिया में अपनी तरह का पहला ‘‘स्कूल आॅफ एडिक्शन स्टडीज’’ की स्थापना करने का भी है, जो अमरीका के हेज़लडन ग्रेज्युएट स्कूल आॅफ एडिक्शन स्टडीज की तर्ज पर काम करेगा.

क्या आम आदमी पार्टी पंजाब में अतिआत्मविश्वास का शिकार हो रही है?

आप ने पंजाब के युवाओं से भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिये जनलोकपाल विधेयक लागू करने का वायदा किया है. केजरीवाल ने कहा कि उनकी पार्टी उद्योगों के बीच राज्य और उसकी सरकार के प्रति विश्वास बहाल कर 25 लाख नई नौकरियों का सृजन करेगी. उनकी पार्टी अबतक राजनेताओं और माफिया के द्वारा नियंत्रित ‘‘ठेका प्रणाली’’ को तोड़कर योग्यता के आधार पर युवाओं को ठेके देना चाहती है.

आम आदमी पार्टी ने 25 लाख नई नौकरियां देने की घोषणा की है

आप पंजाब के दलितों को केंद्रित करते हुए दोआब क्षेत्र में कांशीराम युवा कौशल विश्वविद्यालय की स्थापना भी करना चाहती है. प्रस्तावित विश्वविद्यालय के मालवा और माझा क्षेत्र में क्षेत्रीय शाखाएं भी होंगी.

पार्टी ने युवाओं से कहा है कि वह सत्ता में आने पर सरकारी सेवाओं में डाॅक्टरों, शिक्षकों और अन्य पेशेवरों की मूल वेतन पर होने वाली नियुक्ति की प्रक्रिया पर रोक लगाएगी. इसके बजाय रोजगार सिर्फ ग्रेड पे के आधार पर दिया जाएगा. प्रोबेशन की अवधि को भी दो वर्ष पूर्व वाली व्यवस्था की तरह कर दिया जाएगा ताकि सरकारी नौकरियों में रिक्त पड़े 1.25 लाख पदों को भरा जा सके.

उड़ता पंजाब: चार साल में बरामद हुआ 3.8 करोड़ किलो ड्रग्स

कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आप के इस युवा केंद्रित एजेंडे का खुलकर विरोध किया है. उन्होंने कहा, ‘‘यह पुरानी बोतल में नई शराब नहीं बल्कि चुराई हुई बोतल मेें चुराई हुई शराब की तरह है.’’ उन्होंने आप को चुनौती दी है कि वह यह साबित करे कि उनके द्वारा घोषणापत्र में किये गए वायदे कांग्रेस द्वारा हाल के दिनों में की गई घोषणाओं की कार्बन काॅपी नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘‘सबसे बड़ी हैरानी की बात तो यह है कि उन्होंने अपनी इस चोरी को छिपाने का प्रयास भी नहीं किया है. आप ने नशामुक्त और भ्रष्टाचार मुक्त पंजाब के हमारे विचार को बड़े आराम से अपना बनाने का प्रयास किया है. सच्चाई यह है कि हमनें 15 दिसंबर को भटिंडा में आयोजित बदलाव रैली में इन वायदों के अलावा रोजगार सृजन करने और सभी झूठे मामलों को वापस लेने की कसम खाई थी.’’

इस सबके बीच अकाली दल अभी तक गुजरात को बदनाम करने को लेकर आप और कांग्रेस दोनों पर हमला करने की पुरानी रणनीति पर ही चल रहे हैं. दिल्ली मे बाबा बंदा बहादुर के 300वें शहादत दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने इन दोनों ही दलों पर सिर्फ 2017 के चुनावों में अपनी संभावनाओं को बढ़ाने के लिये पंजाब को बदनाम करने का आरोप लगाया. अकाली ने कांग्रेस-आप को पंजाब और सिख विरोधी कहा है.

इस बीच मलेरकोटला में 24 जून को कुरआन को अपवित्र करने के मामले मेे दिल्ली के महरौली से आप के विधायक नरेश यादव के खिलाफ पंजाब पुलिस द्वारा मामला दर्ज किये जाने को लेकर भी राजनीति गर्मा गई है. केजरीवाल ने इसे पार्टी को बदनाम करने की बड़ी साजिश बताया है.

'आप' की नाव पंजाब में फंसी मंझधार में

अमृतसर में एक रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘24 जून के बाद से पंजाब पुलिस लगातार कहती रही कि पवित्र कुरआन को अपवित्र करने का काम विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों का है लेकिन 2 जुलाई को अचानक उन्होंने इस कृत्य के लिये आप पर आरोप लगाने शुरू कर दिये. उन्होंने ऐसा जानबूझकर मेरे 3 जुलाई से प्रारंभ होने वाले पंजाब दौरे में रोड़े अटकाने के इरादे से किया है.’’

‘‘हमें बदनाम करने के हजारों और तरीके मौजूद हैं. लेकिन उन्हे अपने नापाक इरादों को पूरा करने के लिये पवित्र कुरआन के पन्ने फाड़ने की क्या जरूरत थी.’’

इस मामले के मुख्य आरोपी विहिप पदाधिकारी विजय गर्ग का जिक्र करते हुए वे कहते हैं, ‘‘गर्ग सिर्फ एक मोहरा है. जब आप पंजाब में सरकार बनाएगी तो हम उसके बाप (मुख्य षड्यंत्रकारी) को सामने लेकर आएंगे और पवित्र कुरआन की बेअदबी के लिये जेल जरूर भेजेंगे.’’ कुमार ने पुलिस को बताया है कि उसने ऐसा आप विधायक नरेश यादव के इशारे पर किया था.

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर ने इन आरोपों को लेकर एक स्वतंत्र और विश्वनीय जांच करवाने की मांग की है. उन्होंने कहा, ‘‘चूंकि अब शक की उंगली दोनों ही दलों, अकाली-बीजेपी और आप की तरफ उठ रही है. इस मामले की तह तक पहुंचने के लिये एक विश्वसनीय जांच होना बेहद आवश्यक है.’’

First published: 6 July 2016, 7:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी