Home » इंडिया » Kerala Congress office on sale on OLX cost only 10000 rupees
 

कांग्रेस OLX पर बेच रही अपना दफ्तर, कीमत मात्र 10000 रुपये

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2018, 16:01 IST

केरल में कांग्रेस दफ्तर मात्र 10000 रुपये में ऑनलाइन बिक रहा है. केरल में तिरुवनंतपुरम स्थित कांग्रेस दफ्तर को खरीदने के लिए आपको ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट ओएलएक्स पर संपर्क करना पड़ेगा. दफ्तर को खरीदने के लिए आपको मात्र दस हजार रुपये खर्च करने पड़ेंगे.

आपको ये सब झूठ लग रहा होगा. लेकिन यह सच है. दरअसल,  केरल में 3 राज्यसभा सीटों के लिए सांसदों का चुनाव होना है. तीन में से 2 सीटों पर लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (एलडीएफ) का कब्जा होना तय है. वहीं कांग्रेस नीत यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (यूडीएफ) के हिस्से में एक सीट आएगी. इसे लेकर कांग्रेस नेतृत्व ने यह सीट यूडीएफ में अपनी सहयोगी पार्टी केरल कांग्रेस (एम) को देने का फैसला ले लिया. जिसे लेकर पार्टी के कई नेता और कार्यकर्ता नाराज हो गए. 

पढ़ें- कानपुर युनिवर्सिटी के छात्र-छात्राओं को पुलिस ने जमकर पीटा, गलत कॉपी जांचने को लेकर कर रहे थे प्रदर्शन

इसे लेकर एक कार्यकर्ता ने केरल के सस्थमंगलम इलाके स्थित कांग्रेस के इंदिरा भवन ऑफिस को बेचने के लिए ऑनलाइन विज्ञापन दे दिया. इस विज्ञापन में ऑफिस की कीमत 10,000 रुपये रखी गई है. साथ ही विज्ञापन में कांग्रेस ऑफिस की तस्वीर और पूरे एरिया की जानकारी के साथ ही इसे बिक्री के लिए पूरी तरह तैयार बताया है. यह विज्ञापन सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है.

 

बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा के उप सभापति पीजे कूरियन का कार्यकाल 1 जुलाई को खत्म हो रहा है. उनके साथ ही माकपा के सीपी नारायणन और केरल कांग्रेस (एम) के जॉय अब्राहम का कार्यकाल भी खत्म होगा. एलडीएफ इनमें से दो सीट जीतने की स्थिति में है, जबकि यूपीए एक सीट जीत सकती है.

पढ़ें- RSS इवेंट में जाने से गुस्साई कांग्रेस ने अपनी इफ्तार पार्टी में प्रणब मुखर्जी को नहीं भेजा न्योता !

शुक्रवार देर रात कोची में केरल कांग्रेस (एम) के नेता केएम मणि के बेटे जोसे के. मणि को राज्यसभा के लिए समर्थन देने की घोषणा कांग्रेस ने की थी. पार्टी नेतृत्व के इस निर्णय की केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी (केपीसीसी) के पूर्व अध्यक्ष वीएम सुधीरन, पीजे कूरियरन और दो युवा कांग्रेसी विधायकों वीटी बलराम व केएस सबारीनाथन ने नाराजगी जताई. दोनों विधायकों ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से ये निर्णय वापस लेने की मांग भी की.

First published: 11 June 2018, 16:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी