Home » इंडिया » kerala: fire at puttingal temple in kollam, 105 dead
 

केरल के पुत्तिंगल मंदिर में भीषण आग, 105 श्रद्धालुओं की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 April 2016, 13:09 IST

केरल के कोल्लम ज़िले में पुत्तिंगल मंदिर में भीषण आग लगने से अब तक 102 लोगों की मौत हो गई है. इस हादसे में 250 से ज़्यादा लोगों के घायल होने की भी खबर है.

कोल्लम से करीब 25 किमी दूर पारावुर में स्थित पुत्तिंगल देवी मंदिर में आग पटाख़ों के ढेर में विस्फोट होने के कारण लगी. इसने देखते ही देखते विकराल रूप धारण कर लिया.

खबर है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद केरल जा रहे हैं. उन्होंने ट्वीट कर अपने केरल दौरे की जानकारी दी है साथ ही उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ मंत्री जेपी नड्डा को भी घटना स्थल का दौरा कर वास्तुस्थिति का मुआयना करने का निर्देश दिया है.

प्रधानमंत्री ने हादसे के बाद केरल के मुख्यमंत्री ओमेन चांडी से भी बातचीत की है और उन्हें हर तरह की जरूरी सहायता उपलब्ध करवाने का आश्वासन दिया है.

PM-Kerala

प्रधानमंत्री कार्यालय ने मृतकों के परिजनों को दो लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये मुआवजा देने की घोषणा भी की है.

घटना की भयावहता को देखते हुए अभी मृतकों की संख्या और बढ़ने की आशंका जताई जा रही है. केरल सरकार ने इस हादसे की उच्च स्तरीय जांच के आदेश जारी कर दिए हैं.

kerala temple fire

सीएमओ केरल

हादसे के वक्त पुत्तिंगल मंदिर में वार्षिकोत्सव समारोह चल रहा था जिसके कारण श्रद्धालुओं की भारी भीड़ मंदिर में जमा थी. समारोह के समापन के अवसर पर आतिशबाजी की परंपरा है.

आतिशबाज़ी के दौरान ही भोर में लगभग साढ़े तीन बजे आग लग गई. जिला प्रशासन के मुताबिक मंदिर को आतिशबाजी की इजाजत नहीं थी इसके बावजूद वहां भारी मात्रा में आतिशबाजी का इंतजाम रखा गया था.

केरल के मंदिरों में एक परंपरा है जिसमें एक दूसरे से ज्यादा पटाखे छोड़ने का मुकाबला चलता है. पुलिस प्रशासन के मुताबिक आतिशबाजी के दौरान ही कुछ चिंगारियां उस जगह जाकर गिरीं जहां भारी मात्रा में पटाख़े रखे हुए थे.

keral fire

एएफपी

इससे भीषण विस्फोट हो गया. विस्फोट की चपेट में आकर मंदिर का प्रशासनिक भवन ढह गया. इसके नीचे दबकर कई श्रद्धालुओं की मौत हो गई.

मृतकों और गंभीर रूप से घायल लोगों को केरल की राजधानी त्रिवेंद्रम ले जाया जा रहा है.

हेल्पलाइन नंबर्स:

0474-2512344, 9497930863, 9497960778

First published: 10 April 2016, 13:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी