Home » इंडिया » Kerala flood: UN chief Antonio Guterres expressed sadness over rain adversity
 

केरल में बाढ़ से आई 100 साल की सबसे भीषण तबाही पर UN ने भारत के लिए कह दिया ऐसा..

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 August 2018, 15:36 IST

केरल में भारी बारिश और बाढ़ ने राज्य को पूरी तरह से तबाह कर दिया है. केरल में बारिश का कहर इतना ज्यादा है कि 2 लाख से ज्यादा घर पानी में डूब गए हैं. सैकड़ों लोगों ने अपनी जिंदगी गंवा दी है. लाखों लोग बेघर हो गए हैं. राज्य को 20 हजार करोड़ से ज्यादा का नुकसान हो गया है. तबाही का मंजर ऐसा है कि कोच्चि एयरपोर्ट तक में पानी भर गया है.

 

केरल में बाढ़ की आपदा को देखते हुए पीएम मोदी ने राज्य का हवाई दौरा किया है इसके अलावा केंद्र सरकार ने राज्य के लिए 500 करोड़ के राहत पैकेज का ऐलान किया है. वहीं संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी इसे लेकर चिंंता जाहिर की है. भीषण आपदा को लेकर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने भी दुख जताया है.

 

हालांंकि उन्होंने यह भी कहा है कि भारत इस आपदा से निकलने में सक्षम है. संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि भारत के पास प्राकृतिक आपदाओं से निपटने के लिए बेहतर प्रणाली मौजूद है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने मीडिया से बात करते हुए कहा, "भारत में हमारा दल हाल ही में आई बाढ़ पर निकटता से नजर बनाए हुए है. संयुक्त राष्ट्र निश्चित तौर पर भारत में बाढ़ के कारण हुए जान-माल के नुकसान और विस्थापन को लेकर दुखी है."

 

जब मीडिया ने उनसे बाढ़ के लिए मदद मुहैया कराने का सवाल पूछा तो दुजारिक ने कहा, "हम स्थिति पर करीबी नजर बनाए हुए है. इस संबंध में भारत सरकार की ओर से सहायता के लिए कोई प्रत्यक्ष अनुरोध नहीं किया गया है. उन्होंने कहा कि आप जानते हैं कि भारत के पास प्राकृतिक आपदाओं से निपटने के लिए बेहतर प्रणाली मौजूद है."

बता दें कि केरल में आई आपदा से निपटने के लिए NDRF और वायुसेना की टीम दिन रात काम कर रही है. मंजर इतना भयावह है कि बाढ़ से 3.14 लाख से ज्यादा लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं जबकि 300 से अधिक लोग बाढ़ के कारण अपनी जिंदगी खो चुके हैं. करीब 80 बांधों में पानी का स्तर क्षमता से अधिक होने के बाद उनसे पानी छोड़ना पड़ा है. एनडीआरएफ की 58 टीमें 8 जिलों में तैनात हैं और बचाव तथा राहत कार्यों में जुटी हुई हैं.

First published: 18 August 2018, 15:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी