Home » इंडिया » Kerala floods relief: 12 year old girl donates her money of heart surgery for Kerala flood victims
 

केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद को आगे आई 12 साल की बच्ची, पूरी कहानी जानकर आपके आंसू नहीं रुकेंगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 August 2018, 12:02 IST

केरल में बाढ़ से तबाह हुए लाखों लोगों की मदद के लिए केंद्र सरकार, राज्य सरकारें और साथ ही में कई बड़ी कंपनियां भी मदद के लिए आगे आयी हैं. रिलाइंस ग्रुप और बजाज ग्रुप के साथ कई और भी बड़े कॉर्पोरेट हाउस आर्थिक सहायता के लिए आगे आये हैं. लेकिन तमिलनाडु की एक 12 साल की छोटी बच्ची ने बाढ़ पीड़ितों के लिए जो किया वो सुन कर कोई भी भावुक हो जाएगा.

तमिलनाडु के करुर की रहने वाली एक 12 साल की बच्ची ने अपने हार्ट की सर्जरी के लिए बड़ी ही मुश्किल से चंदे के जरिये पैसे जुटाए थे, जिसका एक हिस्सा अब उसने बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए डोनेट कर दिया. अक्षया नाम की ये अच्छी अपने हार्ट की सर्जरी के लिए काफी वक़्त से डोनेशन के जरिये पैसे जुटा रही थी. अक्षया ने इस पैसे का एक भाग दान कर दिया और उसने कहा कि वो टीवी पर केरल के हालात देख क्र बहुत दुखी है. उसने देखा कि कैसे लोग बेघर हो गए और उन्हें खाना तक नसीब नहीं है.

इस मामले में उसने कहा, '' मैंने टीवी के जरिये देखा कि मेरे जैसे कई बच्चे बाढ़ में फंसे हुए है. इसीलिए मैंने फैसला किया कि मैं अपनई सर्जरी लिए इकठ्ठा किये गए डोनेशन के पैसे के एक भाग को बाढ़ पीड़ितों के लिए डोनेट करूंगी. मुझे यकीन ही कोई न कोई मेरी मदद जरूर करेगा. लेकिन केरल को मदद की बहुत सख्त जरुरत है.''

केरल: बारिश के कहर से बचाने के लिए सेना ने बनाया 35 फीट लम्बा पुल, NDRF ने 926 लोगों को बचाया

7वीं क्लास में पढ़ने वाली अक्षया को हार्ट की एक गंभीर बीमारी है. अक्षया ने अपनी मां के साथ जाकर 5000 रुपये की राशि केरल के लिए राहत फंड इकठ्ठा करने वाले एक आर्गेनाइजेशन को सौंप दिए. अक्षया की पहली सर्जरी सफलतापूर्वक संपन्न हो गयी थी जिसके बाद अब नवंबर में उसकी दूसरी सर्जरी होनी थी. उसे इस सर्जरी के लिए 2.5 अभी तक इस सर्जरी के लिए 20 हजार रुपये इकठ्ठा हो पाए थे.

ये भी पढ़ें- Video: केरल की बाढ़ में जिंदगी से जूझते लोगों को जान पर खेल कर बचाते सेना और NDRF के जवान

गौरतलब है कि अक्षया के पिता की कुछ सालों पहले एक एक्सीडेंट में मौत हो गयी थी. उसकी मां आंगनवाड़ी में अस्थाई कार्यकर्ता हैं.

First published: 23 August 2018, 12:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी